Top

गंगा ने कब्जा किया श्मशान, शवों को करना पड़ रहा घंटों इंतजार

By

Published on 13 July 2016 11:53 AM GMT

गंगा ने कब्जा किया श्मशान, शवों को करना पड़ रहा घंटों इंतजार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

[nextpage title="next" ]

manikarnika ghat

वाराणसीः मध्य प्रदेश में जहां बाढ़ ने जिन्दा इंसानो को बेघर कर दिया है तो वही मोक्ष नगरी काशी में शवों को जलाने की जगह भी गंगा ने अपने अंदर समाहित कर लिया है। मोक्ष नगरी के प्रसिद्ध श्मशान मणिकर्णिका घाट पर शवों की अंत्येष्टि अब एक छोटे से छत पर की जा रही है।

काशी के मणिकर्णिका घाट पर चिता को जलाने वाली आग कभी बुझती नहीं हैं। इस श्मशान की धार्मिक मान्यता होने के कारण दूर दराज से भी लोग यहां आकर शवदाह करते है, लेकिन इन दिनों यहां लोगों को शवों के जलने का घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। गंगा में बढ़े जलस्तर के कारण ये घाट पूरी तरह से गंगा में समाहित हो चूका है। इससे शवो की अंत्येष्ठी एक छोटे से छत पर की जा रही है।

छत पर शवों का अंतिम संस्कार करने से अंत्येष्ठी करने आए लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा है तो वहीं अब लोगो को ये डर भी सता रहा है कि गंगा अगर इसी तरह अपना दायरा बढाती गई तो इस छत के बाद शवों को जलाने के लिए कहा जाएंगे।

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

manikarnika ghat गंगा में डूबा मणिकर्णिका घाट

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

manikarnika ghat अंत्येष्टि के लिए शव ले जाते हुए

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

manikarnika ghat अंत्येष्टि के लिए शव ले जाते हुए

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

manikarnika ghat अंत्येष्टि के लिए शव ले जाते हुए

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

manikarnika ghat छत पर होता शवदाह

[/nextpage][nextpage title="next" ]

manikarnika ghat

[/nextpage]

Next Story