×

TRENDING TAGS :

Election Result 2024

Ghaziabad News: झूठे केस पर कोर्ट ने पुलिसवालों को दिखाया सच्चाई का आईना, एक साथ 35 पर FIR दर्ज

Ghaziabad News: गाजियाबाद में सोमवार को 35 पुलिसवालों और अन्य तीन लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है। ये एफआईआर कोर्ट के आदेश के बाद दर्ज की गई है।

Jugul Kishor
Published on: 17 July 2023 9:21 AM GMT
Ghaziabad News: झूठे केस पर कोर्ट ने पुलिसवालों को दिखाया सच्चाई का आईना, एक साथ 35 पर FIR दर्ज
X
सांकेतिक तस्वीर ( सोशल मीडिया)

Ghaziabad News: गाजियाबाद में सोमवार (17 जुलाई) को 35 पुलिसवालों और अन्य तीन लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है। ये एफआईआर कोर्ट के आदेश के बाद दर्ज की गई है। पुलिसवालों पर आरोप है कि उन्होने गाजियाबाद के थाना लोनी बॉर्डर इलाके में सिद्ध बाबा मंदिर मोनू धाम के महंत और उनकी पत्नी को फर्जी केस में जेल भेज दिया था। पिछले कई महीनों से ये मामला कोर्ट में लंबित चल रहा था, कोर्ट ने करीब 40 दिन पहले ही आरोपी पुलिसवालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए थे, लेकिन आज सोमवार को पुलिसवालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

बता दें कि पिछले साल जुलाई 2022 में पुलिस अधिकारी और कर्मचारी महंत के घर जांच करने पहुंचे थे। महंत की पत्नी ने आरोप लगाया था कि उनके घर में पुलिसवालों ने लूटपाट की। इस बात का जब पति-पत्नी ने विरोध किया तो पुलिस ने फर्जी केस लगाकर जेल भेज दिया। पति-पत्नी ने जेल से आने के बाद आरोपी पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई करने की कोशिश की। लेकिन उनकी कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई। जब कहीं सुनवाई नहीं हुई तो पति-पत्नी ने कोर्ट का दरवाज खटखटाया। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान 35 पुलिसवालों समेत 3 अन्य आरोपियों पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया था। लेकिन आदेश के 40 दिनों बाद आज सोमवार को आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

महंत पति-पत्नी ने पुलिस पर लगाए थे ये आरोप

महंत की पत्नी ने अपनी शिकायत में कहा था कि उनके पति सिद्ध बाबा मंदिर मोनू धाम में महंत हैं। इस मंदिर में साल भर खूब चढ़ावा आता है, जिन पैसों से उनके पति मंदिर का रखरखाव करते हैं। इतना ही नहीं ज्यादा पैसे इकठ्ठा होने पर गरीब बच्चियों की शादियां भी करवाते हैं। मंदिर के चढ़ावे को देखते हुए मनीष भाटी और विकास दुबे ने उनसे दो करोड़ की रंगदारी मांगी थी। इसी के बाद 6 जुलाई 2022 को उनके घर में जांच के नाम पर पुलिसकर्मी आए थे और घर का सारा सामान चेक करने लगे थे। सामान लूटने का जब उन्होने विरोध किया तो दोनों के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने का फर्जी केस बनाकर जेल भेज दिया।

Jugul Kishor

Jugul Kishor

Next Story