×

मदर्स-डे पर इन पुलिसवालों ने किया ऐसा काम, आप भी करेंगे सैल्यूट!

सिपाहियों का कहना है कि मदर्स डे के दिन सभी लोग अपनी मां को विश करते है। और उनको कभी किसी तरह की तकलीफ न देने की बात करते है। लेकिन ऐसा होता नही है। अगर वाकई ऐसा होता तो आज किसी के मां बाप इस हालत मे फुटपाथ पर नही बैठे होते।

Shivakant Shukla
Updated on: 12 May 2019 11:33 AM GMT
मदर्स-डे पर इन पुलिसवालों ने किया ऐसा काम, आप भी करेंगे सैल्यूट!
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

शाहजहांपुर: वैसे तो यूपी पुलिस के तमाम ऐसे वीडियो वायरल होते रहते हैं। जिसे देख कर जनता का यूपी पुलिस के प्रति रवैया बदल जाता है।

लेकिन यूपी के शाहजहांपुर में मदर्स डे के मौके पर कुछ सिपाहियों ने मां के प्रति असली प्यार दिखाया है। जिसे देखकर लोग उनकी तारीफ कर रहे हैं। इन पुलिसकर्मियों ने अपनी मां के प्रति प्यार न दिखाकर बल्की उन मांओं के प्रति प्यार दिखाया है। जिनको उनकी औलादों ने दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर कर दिया है।

ये भी पढ़ें— अब इन मोबाइल्स पर नहीं चलेगा वाट्सएप, यह है बड़ी वजह

ये तस्वीरें है यूपी के शाहजहांपुर में एसपी आफिस मे तैनात कांस्टेबल मुख्य आरक्षी पवन यादव, आरक्षी नरेन्द्र यादव और मीडिया सेल मे तैनात आरक्षी राकेश सिंह गौर की। जिन्होने आज मदर्स डे होने के चलते अपने घरों से दूर होने के बाद भी मां के प्रति अपना फर्ज निभाया। इन सिपाहियों ने बेसहारा बुजुर्गों का ख्याल करते हुए मदर्स डे के दिन उनको साङी और कपङे बांटे।

इतना ही नहीं इन सिपाहियों ने ऐसे बुजुर्गों को खाने पीने की चीजें भी दी। जब ये सिपाही बुजुर्गों को कपड़े बांट रहे थे। तब सभी लोग इनकी तारीफ कर रहे थे। खास बात ये है कि अपने घरों से दूर रहकर ये अपनी मां को आज के दिन कुछ नही दे पाए। लेकिन मां तो मां होती है फिर चाहे वह किसी की हो। बेसहारा मां बाप की खिदमत करके उनको लगा कि उन्होंने अपने मां बाप को कपड़े दिए है। जिसकी चारों ओर प्रशंसा हो रही है।

ये भी पढ़ें— जानिए येदियुरप्पा ने क्यों कहा- कर्नाटक में भाजपा के लिए सरकार बनाने का माहौल है?

सिपाहियों का कहना है कि मदर्स डे के दिन सभी लोग अपनी मां को विश करते है। और उनको कभी किसी तरह की तकलीफ न देने की बात करते है। लेकिन ऐसा होता नही है। अगर वाकई ऐसा होता तो आज किसी के मां बाप इस हालत मे फुटपाथ पर नही बैठे होते। इसलिए आज उन्होंने बेसहारा मां बाप को कपड़े साङी और खाने पीने की चीजे देकर एक अच्छा कार्य करने की कोशिश की है। ऐसा करने से वाकई दिल को बहुत सुकून मिला है।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story