Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेजः सस्पेंड डॉ. कफील की योगी से अपील

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज ऑक्सीजन कांड में बीआरडी के पूर्व प्राचार्य प्रो. राजीव मिश्र, मेंटिनेंस इंचार्ज डॉ.सतीश कुमार और डॉ. कफील को सस्पेंड कर दिया गया।

Shweta

ShwetaPublished By Shweta

Published on 20 April 2021 5:45 PM GMT

डॉ कफील खान
X

डॉ कफील खान (फाइल फोटो- सोशल मीडिया) 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

यूपीः गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज ऑक्सीजन कांड सभी को याद होगा। इस कांड में बीआरडी के पूर्व प्राचार्य प्रो. राजीव मिश्र, मेंटिनेंस इंचार्ज डॉ.सतीश कुमार और डॉ. कफील को सस्पेंड कर दिया गया। इस दौरान पिछले साल कोरोना काल में प्राचार्य प्रो. राजीव मिश्र और मेंटिनेंस इंचार्ज डॉ.सतीश कुमार को निलंबन हटा दिया गया।

बता दें कि गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज में डॉ कफील खान पर आरोप लगा है कि वह समय पर मरीज को ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं करा पाए। जिसके बाद से मरीज ने दम तोड़ दिया।

गौरतलब है कि बीआरडी मेडिकल कॉलेज ऑक्सीजन कांड के बाद से डॉ. कफील खान सस्पेंड चल रहे हैं। ऐसे में उन्होंने कोरोना काल की दुहाई देते हुए सीएम योगी से अपना निलंबन वापस लेने की मांग की है। डॉ. ने योगी को एक चिट्ठी लिखकर कहा है कि उनका 15 वर्षों का आईसीयू का अनुभव है। इस समय यूपी में कोरोना को लेकर मची महामारी में मरीजों के काम आ सकता है।

निलंबित किए गए डॉ. की वापसी

आपको बताते चले कि इसी मामले में सस्पेंड हुए पूर्व प्राचार्य प्रो. राजीव मिश्र और मेंटिनेंस इंचार्ज डॉ.सतीश कुमार को पिछले साल चार मार्च को वापस हो चुका है। जबकी वही डॉ कफील की बहाली नहीं की जा रही। 36 से भी अधिक पत्र लिखने के बावजूद अधिकारी द्वेषपूर्ण ढंग से उनका निलंबन वापस नहीं कर रहे हैं।

बता दें कि जांच अधिकारियों की रिपोर्ट और इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश में उन्हें चिकित्सकीय लापरवाही और भ्रष्टाचार के आरोपों से मुक्त कर दिया गया। इस समय देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है। इसे देखते हुए डॉ. कफील खान ने योगी सरकार को पत्र लिखा है कि मैं अपने देश के नागरिकों की सेवा करना चाहता हूं इसलिए मेरा निलंबन खत्म कर एक अवसर दें। चाहें तो महामारी की रोकथाम के बाद फिर से निलंबित कर दें। फिलहाल अभी कोई योगी सरकार की ओर से जवाब नहीं आया है।

Shweta

Shweta

Next Story