Top

राज्यपाल ने स्वामी विवेकानन्द की जयंती पर अर्पित की श्रद्धांजलि

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 12 Jan 2019 12:59 PM GMT

राज्यपाल ने स्वामी विवेकानन्द की जयंती पर अर्पित की श्रद्धांजलि
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने आज स्वामी विवेकानन्द की जयंती पर अमीनाबाद के झण्डे वाले पार्क स्थित स्वामी विवेकानन्द की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करके अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर पूर्व विधान परिषद सदस्य विन्धवासिनी कुमार, नगर निगम के अधिकारीगण व अन्य विशिष्टजन भी उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें— मैं मानता हूं सरकार ने 5 साल में ये महत्वपूर्ण काम किया है: सवर्ण आरक्षण पर बोले राज्यपाल

राज्यपाल ने इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ के माध्यम से पूरे विश्व को एक परिवार का दर्शन दिया। शिकागो में स्वामी विवेकानन्द ने उपस्थित जन समूह को ‘भाईयों-बहनों’ कहकर सम्बोधित किया, जो दूसरों से अलग था, जिसके कारण लोग भारतीय ज्ञान और दर्शन के प्रति आकर्षित हुए। भारत की विशेषता ज्ञान बांटने वाले देश की है। उन्होंने कहा कि यदि देशवासी इस भूमिका में काम करें तो भारत बौद्धिक सम्पदा के आधार पर विश्व गुरू बन सकता है।

ये भी पढ़ें— पेरिस में भीषण धमाका, 4 की मौत, कई लोग घायल

नाईक ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने देश और दुनिया के लोगों को नई सोच और नई दिशा दी तथा देशवासियों में स्वाभिमान और राष्ट्रीय चेतना का संचार किया। भारतीय वेदान्त, दर्शन और आध्यात्म पर समूचे विश्व के सामने अपने विचार रखे। शिकागो में आयोजित विश्व धर्म परिषद में दिये गये उनके उद्बोधन से भारत की एक विशेष छवि बनी। उनके व्याख्यान से यह सिद्ध हुआ कि भारतीय संस्कृति में सभी को समाहित करने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द से प्रेरणा प्राप्त करके हमारे युवा उनके विचारों को आत्मसात करने का प्रयास करें।

ये भी पढ़ें— 69000 शिक्षक भर्ती पर खड़ा हो सकता है ‘संकट’, ये है वजह…

राज्यपाल ने कहा कि ‘कुम्भ-2019’ इस वर्ष कई कारण से अलग है। पहले कुम्भ इलाहाबाद में आयोजित होता था। इस वर्ष इलाहाबाद का पौराणिक नाम प्रयागराज पुनःस्थापित किया गया है। कुम्भ के दौरान राज्य सरकार के प्रयास से ‘अक्षयवट’ और ‘सरस्वती कूप’ के दर्शन भी आम जनता को होंगे। पूर्व विधान परिषद सदस्य विन्धवासिनी कुमार के सुझाव पर उन्होंने आश्वासन दिया कि ऐतिहासिक झण्डेे वाले पार्क में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के प्रस्ताव को लिखकर भेजें जिससे उस पर कार्यवाही की जा सके।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story