×

लोकायुक्त जांच में दोषी पूर्व MLA पर कार्रवाई न होने से गवर्नर सख्त, CM को लिखा पत्र

By

Published on 8 Oct 2016 2:55 PM GMT

लोकायुक्त जांच में दोषी पूर्व MLA पर कार्रवाई न होने से गवर्नर सख्त, CM को लिखा पत्र
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: राज्य के लोकायुक्त की जांच में दोषी पाए जाने पर अब तक मड़ियाहूं, जौनपुर के पूर्व विधायक कृष्ण कुमार सचान पर कार्रवाई नहीं हुई । इस पर गर्वनर राम नाईक ने सख्त रूख अख्तियार किया है। उन्होंने सीएम अखिलेश यादव को पत्र लिखकर सक्षम प्राधिकारी से स्पष्टीकरण ज्ञापन लेने के लिए कहा है। साथ ही उसे लोकायुक्त की विशेष रिपोर्ट के साथ राज्य विधान मण्डल के दोनों सदनों में रखने को कहा है।

इस मामले में की गई कार्यवाही से लोकायुक्त को अवगत न कराए जाने के कारण गवर्नर को विशेष रिपोर्ट भेजी गई थी। जिसका संज्ञान लेते हुए राम नाईक ने सीएम अखिलेश यादव को पत्र लिखा है।

पूर्व विधायक के खिलाफ आय से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने की शिकायत

विधानसभा क्षेत्र मडियाॅहू, जौनपुर के पूर्व विधायक के विरुुद्ध यह शिकायत प्राप्त हुई थी कि उन्होंने वर्ष 2007 से 2011 की अवधि में ज्ञानोदय शिक्षण एवं मानव उत्थान समिति बनाकर सम्पत्ति अर्जित की। अर्जित सम्पत्ति उनके आय के ज्ञात स्रोतों से कहीं अधिक है। यह भी शिकायत की गर्इ थी कि सचान की पत्नी ने 28 जुलाई 2010 को ग्राम चकटोडरपुर में संजय कुमार व विजय कुमार से जो जमीन खरीदी है वह अवैध रूप से किए गए पट्टों की जमीन थी।

अर्जित सम्पत्ति और आय में पाया गया ज्यादा अंतर

इस प्रकरण में लोकायुक्त जांच में सामने आया कि वर्ष 2007 से 2011 के मध्य ज्ञानोदय शिक्षण एवं मानव उत्थान समिति के नाम से अर्जित की गई सम्पत्ति और सचान की इस अवधि में हुई आय में ज्यादा अंतर है।

लोकायुक्त ने की थी सीएम से जांच की संस्तुति

इसका संज्ञान लेते हुए लोकायुकत ने सरकार से पूर्व विधायक के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 13(2) में अभियोजन चलाए जाने के लिए जांच कराने को कहा था।

दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई की संस्तुति

यह भी संस्तुति की गई थी कि सचान की पत्नी ने जो अवैध पट्टे्दारों से जमीन खरीदी है उसे राज्य सरकार में निहित किया जाए और अवैध रूप से पट्टे करने वाले एवं पट्टों को निरस्त न करने के उत्तरदायी परगनाधिकारी सतीश चन्द्र शुक्ल, प्रह्लाह सिंह व समीर वर्मा के विरूद्ध कार्यवाही की जाए।

Next Story