×

सामूहिक विवाह समारोह में 28 बेटियों के हाथों में रची मेंहदी

मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत समाजकल्याण विभाग और उपनगर बड़हलगंज में सक्रिय जनसेवा संस्था के संयुक्त आयोजन में संपन्न दहेज रहित विवाह समारोह में 28 युगल जोड़ों ने सात फेरे लिए।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 4 Feb 2019 7:30 AM GMT

सामूहिक विवाह समारोह में 28 बेटियों के हाथों में रची मेंहदी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

गोरखपुर: मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत समाजकल्याण विभाग और उपनगर बड़हलगंज में सक्रिय जनसेवा संस्था के संयुक्त आयोजन में संपन्न दहेज रहित विवाह समारोह में 28 युगल जोड़ों ने सात फेरे लिए।

उपनगर के चरणपादुका कुटी से सामूहिक विवाह में शामिल होने के लिए 28 दूल्हों की बारात जब एक साथ निकली तो उसके भव्य आकर्षण में सभी डूब गए। चरणपादुका कुटी, गोला मुहल्ला, लेटाघाट, गोलतिरहा, कालेज तिराहा होते हुए बारात के अपने गंतव्य मिनी ग्रामीण स्टेडियम में पहुचने तक दोनों तरफ देखने वालों की भीड़ लगी रही वही नगर में कई स्थानों पर लोगों ने पुष्प वर्षा कर बारातियों का स्वागत किया।

यह भी पढ़ें.....विपक्षी दलों के हंगामे के बाद लोकसभा दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित

सामूहिक विवाह समारोह के बाद नवजीवन में प्रवेश कर रही बेटियों को सोने चांदी के जेवर, बेड, गद्दा, रजाई, चद्दर, तकिया, आलमारी, सिंगारदान, मोबाइल, घड़ी, टार्च, मच्छरदानी, मेकप बाक्स, साड़ियां, शूट, लड्डू, खाझा, 20000 रूपये नकद खाते में उपहार देकर विदा किया गया।

उपनगर बड़हलगंज में संपन्न हुए दहेज रहित सामूहिक विवाह समारोह के साक्षी बने हजारों की संख्या में स्त्री-पुरूषों ने नवदम्पतियों को आशीर्वाद देकर उनके सफल वैवाहिक जीवन की कामना किया।

यह भी पढ़ें.....चिटफंड घोटाला: सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल होगी सुनवाई

समारोह में युगलों को आशीर्वाद देते हुए जिला समाज कल्याण अधिकारी सप्तर्षि कुमार ने कहा कि प्राचीन भारतीय परंपरा में स्त्री को जीवन का आधार माना जाता रहा है, लेकिन समय के साथ समाज में व्याप्त हुई दहेज की बुराई ने उन्हें बोझ बना दिया। लेकिन आज जनसेवा संस्था ने समाज को संदेश दिया है कि नहीं "बेटियां बोझ नहीं हैं" वह एक सामुहिक ज़िम्मेदारी है जिनको सबके साथ निभाने की जरूरत होती है।

उपजिलाधिकारी गोला अरुण ने सफल आयोजन के लिए जनसेवा संस्था की तारीफ करते हुए कहा कि ईमानदारी से प्रयास हो तो कम संसाधनों में ही भव्य आयोजन संपन्न हो जाते हैं। जनसेवा के लोगो ने आज इसे साबित किया है।

यह भी पढ़ें.....‘भारत के मन की बात’ का मुख्य उद्देश्य है मजबूत भारत, मन का भारत: जेपी नड्डा

जनसेवा के अध्यक्ष महेश उमर ने कहा कि सामूहिक विवाह समारोह की सफलता तब होगी जब समाज के बड़े तबके के लोग आगे बढ़ कर इसमें शामिल होंगे। सफल आयोजन के लिए सभी का आभार प्रकट किया। समारोह के आयोजन में नगर विकास मंच, सेवा संस्था के साथ नगर पंचायत बड़हलगंज के कार्यकर्ताओं ने भी सहयोग किया।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story