Top

GRP की पकड़ में आया लेडी गैंग, बताया-पति और बच्चे भी देते हैं साथ

By

Published on 29 Jun 2016 12:45 PM GMT

GRP की पकड़ में आया लेडी गैंग, बताया-पति और बच्चे भी देते हैं साथ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शाहजहांपुर: जीआरपी पुलिस ने ट्रेनों में लूट करने वाली एक 'लेडी गैंग' का खुलासा किया है। यह लेडी गैंग ट्रेनों में यात्रियों से दोस्ती कर उनकी जेब काटना, छिनैती और चेन स्नेचिंग जैसी वारदातों को अंजाम देता था। पूछताछ में पता चला कि इस गैंग में और भी महिलाएं और बच्चे शामिल हैं।

पूछताछ में ये बात भी सामने आई कि यह लेडी गैंग उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तराखंड सहित देश के अन्य राज्यों में भी सक्रिय है। इस गैंग में शामिल सभी महिलाएं राजस्थान की रहने वाली हैं। साथ ही इनके परिवार के लोग बावरिया गैंग कि तरह डकैती की घटनाओं को अंजाम देने का काम करते हैं।

फिलहाल जीआरपी पुलिस ने इस लेडी गैंग की दो महिलाओं को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बाकी फरार महिलाओं और इनके परिवार की तलाश की जा रही है।

शोर मचाने पर दबोचा

जीआरपी एसओ जयशंकर सिंह ने बताया कि प्लेटफार्म नंबर एक पर खड़ी त्रिवेणी एक्सप्रेस में सवार थाना सदर निवासी कुसुमलता के गले से गिरफ्तार दोनों महिलाओं ने मंगलसूत्र खींच लिया। कुसुमलता के शोर मचाने पर आस-पास मौजूद लोगों ने आरोपी महिलाओं को पकड़ लिया।

-------हरैया गांव में रह रहे गैंग के लोग

जीआरपी पुलिस ने जब उन महिलाओं की तलाशी ली तो उनके पास से मंगलसूत्र बरामद हुआ। पूछताछ में पकड़ी गई महिलाओं ने बताया कि वे राजस्थान के अलवर की रहने वाली हैं। वे बहलिया घुमंतू जाति से ताल्लुक रखती हैं। वर्तमान में इस लेडी गैंग की महिलाएं पुवायां के हरैया गांव में रह रही हैं। पकड़ी गई महिलाओं में एक का नाम ममता (30 साल) और सोमवती (25 साल) है।

बच्चों की मदद से निकालते थे सामान

एसओ के मुताबिक पकड़ी गई महिलाओं ने बताया कि वे रेल यात्रियों की चेन, पर्स छीनकर अपने साथ स्टेशन पर घूम रहे बच्चों को थमा देती थीं। ये बच्चे लूटा गया समान लेकर स्टेशन से बाहर निकल जाते थे। बच्चे होने के कारण उन पर कोई शक भी नहीं करता था। लूट के बाद अगर किसी यात्री को इन महिलाओं पर शक होता था और उसकी तलाशी ली जाती थी तो इनके पास से लुटा सामान बरामद नहीं होता था और ये बच जाती थीं।

परिवार के पुरुष करते हैं डकैती

पकड़ी गई महिलाओं की मानें तो इनके घर के पुरुष बावरिया गिरोह की तरह लूट और डकैती की घटनाओं को अंजाम देते हैं। वर्तमान में इस लेडी गिरोह की सात-आठ महिलाएं और बच्चे थाना सदर बाजार क्षेत्र के मोहल्ला गदियाना में रह रहे हैं।

लूट से बनाई संपत्ति

इस गिरोह का संचालन राजकुमारी पत्नी बबलू अलवर निवासी करती है। फिलहाल ये शाहजहांपुर के गदियाना मोहल्ले में रह रही हैं। अब जीआरपी को इसकी तलाश है। इन दोनों महिलाओं के पकड़े जाने की सूचना के बाद से इनके परिवार के लोग फरार हो गए हैं। पूछताछ में ये भी पता चला कि इन महिलाओं के पास काफी संपत्ति है। यह संपत्ति इन लोगों ने लूट और छिनैती की घटनाओं को अंजाम देकर बनाई है।

Next Story