Top

संगम नगरी में पीएम मोदी ने चखा दही-बड़ा, उठाया आलू की टिक्की का लुत्फ

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 Jun 2016 7:15 PM GMT

संगम नगरी में पीएम मोदी ने चखा दही-बड़ा, उठाया आलू की टिक्की का लुत्फ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबादः बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिन चलने वाली बैठक के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी के बड़े नेताओं को तरह-तरह के व्यंजन परोसे गए। पीएम मोदी ने बड़े चाव से पहले दही-बड़ा खाया और फिर आलू टिक्की का लुत्फ उठाया। खासतौर पर मोदी के लिए दोपहर में गुजराती कढ़ी चावल का इंतजाम किया गया था। बता दें कि मोदी को गुजराती कढ़ी बहुत पसंद है और उनकी पसंद का ध्यान इलाहाबाद में रखा गया है।

सुबह के नाश्ते में क्या?

-सुबह के नाश्ते में दही और जलेबी सबको परोसी गई।

-इसके अलावा ब्रेड, इडली-सांभर, वड़ा, चाय और कॉफी भी थी।

दोपहर को क्या खाएंगे नेता?

-दोपहर के खाने में गुजराती कढ़ी और यूपी की कढ़ी और चावल दिया गया।

-इसके अलावा दाल मखनी, सब्जी, चपाती, तंदूरी रोटी और कुल्चा भी था।

डिनर में पनीर का बोलबाला

-रात के खाने में पनीर से बनी कई डिश परोसी गई।

-इनमें मुख्य तौर पर मटर पनीर की सब्जी थी।

-इसके अलावा चपाती, तंदूरी रोटी और मिठाई की भी व्यवस्था रही।

तीन जगह है भोजन का इंतजाम

-नेताओं और उनके साथ आने वालों के लिए तीन जगह खाना परोसा जाएगा।

-पीएम मोदी और वरिष्ठ नेता अलग जगह खाना खाएंगे।

-दूसरी जगह बाकी नेता और स्थानीय पार्टी कार्यकर्ताओं को खाना मिलेगा।

-तीसरी जगह सुरक्षा से जुड़े लोगों और अन्य के भोजन का इंतजाम किया गया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story