×

यूपी : दहेज में नहीं मिली बाइक, तीन तलाक दे घर से निकाला

तीन तलाक को लेकर कड़ा कानून बनने के बाद भी ऐसे मामलों में कमी नहीं आ रही है। ऐसा ही एक मामला हरदोई के मल्लावां कोतवाली क्षेत्र में सामने आया है। यहां एक महिला के परिजन जब ससुरालियों द्वारा दहेज में मांगी गई बाइक नहीं दे सके तो उसके पति ने मारापीटा और घर से निकालकर तलाक दे दिया।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 24 Jan 2019 3:27 PM GMT

यूपी : दहेज में नहीं मिली बाइक, तीन तलाक दे घर से निकाला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

हरदोई : तीन तलाक को लेकर कड़ा कानून बनने के बाद भी ऐसे मामलों में कमी नहीं आ रही है। ऐसा ही एक मामला हरदोई के मल्लावां कोतवाली क्षेत्र में सामने आया है। यहां एक महिला के परिजन जब ससुरालियों द्वारा दहेज में मांगी गई बाइक नहीं दे सके तो उसके पति ने मारापीटा और घर से निकालकर तलाक दे दिया। महिला के पिता की तहरीर पर पति समेत सात ससुरालीजन के विरुद्ध पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

ये भी देखें : मीट की दुकान चलाने से रोकने पर एक्जीक्यूटिव ऑफिसर तलब

जानिए पूरा मामला

थाना कासिमपुर के गौसगंज निवासी इमामुद्दीन ने अपनी पुत्री आशिया का निकाह करीब साढ़े तीन साल पहले मल्लावां कोतवाली क्षेत्र के गंगारामपुर निवासी शानू के साथ किया था। आरोप है कि निकाह के दौरान उसने अपनी हैसियत के मुताबिक दहेज भी दिया था लेकिन उसकी पुत्री के ससुरालीजन दिए गए दहेज से संतुष्ट नहीं थे और आए दिन बाइक की मांग को लेकर लगातार प्रताड़ित करते रहते थे। हद तब हो गई जब उसकी बेटी के पति ने मारापीटा और तलाक देकर घर से निकाल दिया। हालांकि परिजनों ने मामले में पंचायत करने की कोशिश की लेकिन नतीजा शून्य निकला तो ससुरलियो के विरुद्ध मल्लावां में एफआईआर दर्ज कराई गई।

ये भी देखें : लोकतंत्र को बचाने के लिए सपा-बसपा गठबंधन ही विकल्प : अखिलेश

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story