Hardoi News: कैदी की लखनऊ में इलाज के दौरान हुई मौत, बेटी ने जेल में मारपीट का लगाया आरोप

Hardoi News: बहू के ऊपर तेजाब फेंकने के आरोपी ससुर की रविवार को मौत हो गई। जेल प्रशासन के मुताबिक वह कई दिनों से बीमार चल रहा था वही मृतक वृद्ध की पुत्री ने जेल में पिता के साथ हुई मारपीट के बाद उनकी मौत होने का आरोप लगाया है।

Hardoi News: कैदी की लखनऊ में इलाज के दौरान हुई मौत, बेटी ने जेल में मारपीट का लगाया आरोप
जिला कारागार हरदोई  (फोटों: न्यूज नेटवर्क)
Follow us on

Hardoi News: बहू के ऊपर तेजाब फेंकने के आरोपी ससुर की रविवार को मौत हो गई। जेल प्रशासन के मुताबिक वह कई दिनों से बीमार चल रहा था वही मृतक वृद्ध की पुत्री ने जेल में पिता के साथ हुई मारपीट के बाद उनकी मौत होने का आरोप लगाया है। पुलिस का कहना है कि फिलहाल किसी ने कोई तहरीर नहीं दी है। तहरीर मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। कासिमपुर थाने के पिंजरावां बेहंदर निवासी केशव ( 75) की बहू रेनू ने करीब पांच साल पहले ससुर, पति पंकज और मौसेरे देवर रामजीवन के खिलाफ तेजाब फेंकने का मामला दर्ज कराया था।

इसमें पुलिस ने तीनों लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इसमें पंकज और मौसेरे देवर रामजीवन की जमानत हो चुकी थी। रिहाई होने के कुछ दिन बाद पंकज की लखनऊ में संदिग्ध हालत में मौत हो चुकी है। रविवार सुबह केशव के घरवालों को जेल प्रशासन ने बताया कि बीमारी के चलते उनकी मौत हो गई। जेल प्रशासन का कहना है कि केशव कई दिनों से बीमार चल रहा था। जेल अस्पताल में उनका इलाज हो रहा था।

जेल के अंदर मारपीट का आरोप 

डॉक्टरों ने उन्हें मेडिकल कॉलेज रेफर किया था। जहां उनकी इलाज के दौरान रविवार को मौत हो गई। इस मामले में मृतक केशव की पुत्री अनीता पत्नी ओमप्रकाश राठौर निवासी भगवंतनगर मल्लावां का आरोप है कि उसके पिता केशव के साथ जेल के अंदर मारपीट की गई। इससे उनकी हालत बिगड़ गई और मौत हुई। अनीता का कहना है कि उसके पिता के शरीर पर पिटाई किए जाने के निशान हैं। शहर कोतवाल संजय पांडेय का कहना है कि फिलहाल कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने पर कार्रवाई की जाएगी।

जेल अधीक्षक उदय प्रताप मिश्र ने बताया कि जेल में पिटाई का आरोप बिल्कुल निराधार है। मामले की न्यायिक जाँच भी कराई जा रही है। पोस्टमार्टम भी हुआ है जिसने किसी प्रकार की ताज़ा चोट के निशान नहीं पाए गए है। मृतक क़ैदी केशव की जेल में अचानक तबियत ख़राब होने पर जेल के डॉक्टर ने ज़िला अस्पताल रेफेर कर दिया था। डॉक्टर ने ब्रेन हेमरेज़ का अंदेशा जताया था जिसके बाद क़ैदी को लखनऊ रेफेर किया गया था जहां उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई है। सभी बिंदुओं की बारीकी से जाँच की जा रही है।