डेयरी किसानों की आय बढ़ाने के लिए एचसीएल ने बनास डेयरी के बीच साझेदारी

एचसीएल समुदाय ने यूपी के हरदोई के तीन ब्लाक कछौना, बेहेंदर और कोथवन के 175 गांव में दूध की गुणवत्ता में सुधार, दूध उत्पादन बढ़ाने, गांव स्तर पर स्वयं दूध का संग्रह करने का काम किया जा रहा है । एचसीएल समुदाय के इस प्रयास से 64 ग्राम पंचायतों के 765 गांवों में चालू है, जिसमें 90 ,000 परिवार शामिल हैं और लगभग 600000 लोग लाभांवित हो रहे हैं।

लखनऊ: हरदोई जिले में दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए गुरुवार को एचसीएल समुदाय और बनास डेयरी के बीच साझेदारी हुई हैं। एचसीएल समुदाय अमूल ब्रांड नाम से दूध और दूध के उत्पाद बेच रहा है। जो पिछले दो वर्षों में एचसीएल समुदाय और बनास डेयरी मिलकर उत्तर प्रदेश में संगठन की पहुंच को हरदोई जिले से बढ़ा कर अन्य जिलों में विस्तार करेगा।

एचसीएल समुदाय ने यूपी के हरदोई के तीन ब्लाक कछौना, बेहेंदर और कोथवन के 175 गांव में दूध की गुणवत्ता में सुधार, दूध उत्पादन बढ़ाने, गांव स्तर पर स्वयं दूध का संग्रह करने का काम किया जा रहा है । एचसीएल समुदाय के इस प्रयास से 64 ग्राम पंचायतों के 765 गांवों में चालू है, जिसमें 90 ,000 परिवार शामिल हैं और लगभग 600000 लोग लाभांवित हो रहे हैं।

ये भी देखें : बिजली उपकरण गड़बड़ी मामले में 7 इंजीनियर निलंबित, सभी पाए गए थे दोषी

एचसीएल समुदाय के इस पहल से गत फरवरी 2017 से मार्च 2019 के बीच 9025 किसानो को कुल 26.71 करोड़ रुपये राजस्व अर्जित करने में मदद की है। एचसीएल समुदाय और बनास डेयरी के बीच साझेदारी शुरू में तीन साल के लिए की गयी है।

नवप्रीत कौर निदेशकएचसीएल समुदाय ने गुरुवार को करार के बाद पत्रकारों को बताया कि उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा दूध उत्पादक है, जो भारत के कुल दूध उत्पादन में 17 फीसदी योगदान देता है। हालांकि डेयरी क्षेत्र काफी हद तक असंरचित हैए जहां छोटे और सीमांत किसान, जो कम मात्रा में अधिशेष दूध का उत्पादन करते हैं, के पास उचित बाजार मूल्य पर उस दूध को बेचने के लिए कोई उचित चैनल नहीं है। इसके अलावा दूध की गुणवत्ता में अक्सर बड़े पैमाने पर मिलावट होती है। एचसीएल समुदाय प्रक्रियाओं को लागू करने की दिशा में काम कर रहा है जो यह सुनिश्चित करेगी कि दुग्ध विपणन का लाभ बिचौलियों के बजाय सीधे डेयरी किसानों तक जाए।

यह साझेदारी एचसीएल समुदाय के लिए एक सच्ची सफलता है क्योंकि यह साबित करती है कि हमारी अवधारणा व्यवसायिक रूप में व्यवहार्य है और इसे राज्य या बड़े देश के अन्य हिस्सों में दोहराया जा सकता है। हम बनास डेयरी के साथ साझेदारी पर अत्यंत उत्साहित हैं, जो अमूल को दूध का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है।

ये भी देखें : गुरदासपुर: पर्दे के नायक और राजनीति के पुराने खिलाड़ी के बीच होगा दिलचस्प मुकाबला

बनास डेयरी के प्रबंध निदेशक कामराजभाई आर. चौधरी ने कहा हम उत्तर प्रदेश में अपने परिचालन का विस्तार करने के लिए बहुत उत्सुक थे और जिस मॉडल को एचसीएल समुदाय ने लागू किया है वह प्रशंसनीय है। हमएचसीएल समुदाय के साथ साझेदारी करके खुश हैं। बनास डेयरी शोषण के खिलाफ है और यह किसानों को बेहतर पारिश्रमिक सुनिश्चित करके किसानों के हित की रक्षा करता है।

उत्तर प्रदेश एक भैंस प्रमुख बेल्ट है और निजी कंपनियां विभिन्न मूल्य नीतियों को लागू करके किसानों को कम कीमत देते हैं। बनास डेयरी की किसान.केंद्रित मूल्य निर्धारण नीति निजी संस्थाओं को दूध के लिए तुलनात्मक रूप से अधिक कीमत देने के लिए मजबूर करेगी। बनास डेयरी सटीक वजन और परीक्षण तंत्र को लागू करने के बारे में बेहद खास है जो पारदर्शिता और गुणवत्ता नियंत्रण सुनिश्चित करेगा। हम डेयरी किसानों को अच्छी गुणवत्ता वाली फ़ीड भी प्रदान करेंगे जो यह सुनिश्चित करेगा कि उत्पादित दूध की गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार हो।

आज तक हमने गुजरात के बाहर के किसानों को ये सेवाएं प्रदान नहीं की हैंए जो हमारा गृह राज्य है लेकिन मेरा मानना है कि इस परियोजना में काफी संभावनाएं हैं और हम इसके परिणामों को देखने के लिए उत्साहित हैं।

बनास डेयरी के बारे में

बनास डेयरी: गुजरात के बनासकांठा जिले में स्थित बनासकांठा डिस्ट्रिक्ट कोऑपरेटिव मिल्क फेडरेशन एक डेयरी है और एशिया का नंबर 1 दूध एग्रीगेटर है। इसकी स्थापना ऑपरेशन फ्लड के तहत राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के 1961 के नियम के अनुसार 1969 में की गई थी। बनास डेयरी हर दिन औसतन लगभग 60 लाख लीटर दूध एकत्र करती है।
बनास डेयरी ग्रामीण स्तर के किसान संघ का निर्माण करेगी जो व्यक्तिगत किसानों से दूध संग्रह के लिए जिम्मेदार होगा।

ये भी देखें : इस भारतीय महिला ने लाइट स्पो‌र्ट्स एयरक्राफ्ट से ऐसी भरी उड़ान कि रच दिया इतिहास

बनास डेयरी दूध के परिवहन और विपणन के लिए जिम्मेदार होगी।
एक सहकारी संगठन के रूप मेंए बनास डेयरी किसान संघ के माध्यम से डेयरी व्यवसाय से हेने वाला मुनाफा सीधे दुग्ध उत्पादकों को स्थानांतरित करने की दिशा में काम करती है।

बनास डेयरी किसानों को समय पर और उचित भुगतान भी सुनिश्चित करेगीए दूध के वजन और परीक्षण में सटीकता के उच्च मानकों को बनाए रखेगा और हरदोई जिले के कछौनाए कोथावा और बहेंदर में लेनदेन के प्रत्येक चरण में पारदर्शिता सुनिश्चित करेगा।

समुदाय क्षमता निर्माणए प्रशिक्षणए नस्ल सुधार के माध्यम से किसानों का समर्थन करना जारी रखेगा। स्थानीय समुदाय के व्यक्तियों को भी समुदाय द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगाए ताकि पशुधन के लिए डोर स्टेप र्स्ट.एड चिकित्सा सेवाएं प्रदान की जा सकें। लंबे समय मेंए यह साझेदारी किसानों की आय में निरंतर और महत्वपूर्ण वृद्धि सुनिश्चित करेगी।