Top

दिल के मरीज हो जाएं सावधान, बढ़ती गर्मी कर सकती है आपको परेशान

Admin

AdminBy Admin

Published on 26 April 2016 10:10 AM GMT

दिल के मरीज हो जाएं सावधान, बढ़ती गर्मी कर सकती है आपको परेशान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः भीषण गर्मी वैसे तो सबके लिए खतरा है लेकिन दिल के मरीजों के लिए गर्मी में खतरा और भी बढ़ जाता है। स्वस्थ लोग तो इस गर्मी का सामना कर लेते हैं। दिल के मरीजों को गर्मी से होने वाली बीमारी की संभावना ज्यादा रहती है। ऐसे में ये बीमारियां कभी कभी जानलेवा भी हो सकती हैं। इसीलिए गर्मियों में दिल के मरीज को अपना खास ख्याल रखना चाहिए।

पानी की कमी हो सकती है घातक

-बलरामपुर हॉस्पिटल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ राजीव लोचन ने newztrack को बताया कि दिल के मरीजों को वैसे तो ठंड के मौसम में ज्यादा खतरा रहता है।

-गर्मियों में पानी की कमी उन्हें और भी बीमार कर सकती है।

- हार्ट पेसेंट के लिए गर्मी घातक साबित हो सकती है जो घर से बिना पानी पिए निकलते है।

-ऐसे में उन्हें डिहाइड्रेशन होने का खतरा रहता है जो उनकी जान तक ले सकता हैं।

यह भी पढ़ें...बढ़ती गर्मी में अपनाए ये फंडा, जो रखेगा आपको ठंडा-ठंडा

पसीने से होती है पानी की कमी

-केजीएमयू के डॉ वेद प्रकाश ने कहा कि गर्मियों में स्किन से ज्यादा पसीना निकलता है।

-इससे शरीर में पानी की कमी होने लगती है और कम पानी पीने पर डिहाइड्रेशन जैसी बीमारियां घेर लेती है।

-ये धमनियों में रिसाव और स्ट्रोक का कारण बन सकता है।

कैसे करता है दिल काम?

-दिल मांसपेशियों का एक ढांचा है जो रक्त धमनियों के जरिए शरीर के अंगों और तंतुओं को रक्त पहुंचाता है।

-मौसम गर्म होने के कारण शरीर को ठंडा रखने के लिए आम दिनों से ज्यादा पानी खर्च हो जाता है।

-त्वचा की सतह तक रक्त पहुंचाने के लिए और शरीर को ठंडा रखने के लिए दिल को ज्यादा तेजी से काम करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें...गर्मी में मिल रहा सस्ता पानी, नगर आयुक्त ने बुझाई 2 रुपए में प्यास

क्या हैं बीमारी के लक्षण?

-घबड़ाहट, कब्ज, चक्कर आना, मुंह का बार बार सूख जाना, सूखी त्वचा, प्यास ना बुझना, सिर में दर्द, सुस्ती, मांसपेशियों में ऐठन और कमजोरी डिहाइड्रेशन के लक्षण है।

-पसीना, जुकाम, त्वचा में तनाव, चक्कर आना, बेहोशी, मांसपेशियों में तनाव, एड़ियों में सूजन, सांस में दिक्कत, जी मिचलाना,उल्टी हीट स्ट्रोक के लक्षण हैं।

-ऐसे में मरीज को तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

ऐसे करें बचाव

-डॉ राजीव लोचन ने कहा कि मरीज को खूब पानी पीना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए कि कम से कम बाहर धूप में निकलें।

-डॉ वेद प्रकाश ने कहा कि लोग आकर बाहर से कटे हुए फल और देर तक रखे हुए जूस हानिकारक होते है लोगों को इन्हें खाने पीने से बचना चाहिए।

-इसके आलावा बाहर के खाने और जंक फूड से दिल के मरीजों को दूर रखना चाहिए ये उन्हें और भी बीमार कर सकता हैं।

यह भी पढ़ें...एलयू में गर्मी से बचने के लिए कुत्‍तों ने ली फव्‍वारे के पानी में शरण

इस उम्र के लोगों को रखना चाहिए खास ख्याल

-50 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोग अपनी प्यास का अंदाजा नहीं लगा पाते और डिहाइड्रेशन का शिकार हो जाते हैं ऐसे में उनका खास ख्याल रखना चाहिए।

-घर से बाहर जाने पर बार-बार पानी पीते रहने का ध्यान रखना चाहिए।

Admin

Admin

Next Story