Top

बुलंदशहर रेपकांडःHC ने मांगी साल भर में हाईवे पर घटी घटनाओं की सीलबंद रिपोर्ट

चीफ जस्टिस डीबी भोंसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की बेंच ने कहा कि वह सीलबंद रिपोर्ट देखकर फिर से उसे सीलबंद कर देगी। प्रदेश सरकार की तरफ से बहस कर रहे महाधिवक्ता विजय बहादुर सिंह से कोर्ट ने कहा कि गुरूवार दो बजे यह भी जानकारी मुहैया करायें कि 30 जुलाई को घटित बलात्कार कांड में पकड़े गये अपराधियों की पृष्ठभूमि क्या है और उनका सामाजिक स्तर किस प्रकार का है । क्या उन्हें किसी का राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है।

zafar

zafarBy zafar

Published on 10 Aug 2016 2:28 PM GMT

बुलंदशहर रेपकांडःHC ने मांगी साल भर में हाईवे पर घटी घटनाओं की सीलबंद रिपोर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबाद: हाईकोर्ट ने बुलंदशहर में राष्ट्रीय राजमार्ग 91 पर मां-बेटी के साथ सामूहिक बलात्कार की घटना का स्वतःसंज्ञान लेते हुए बुधवार को प्रदेश सरकार से पिछले एक वर्ष में हाईवे पर हुई बलात्कार व लूट की घटनाओं की सीलबंद रिपोर्ट तलब की है।

कोर्ट ने मांगी रिपोर्ट

-चीफ जस्टिस डीबी भोंसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की बेंच ने कहा कि वह सीलबंद रिपोर्ट देखकर फिर से उसे सीलबंद कर देगी।

-प्रदेश सरकार की तरफ से बहस कर रहे महाधिवक्ता विजय बहादुर सिंह से कोर्ट ने कहा कि गुरूवार दो बजे यह भी जानकारी मुहैया करायें कि 30 जुलाई को घटित बलात्कार कांड में पकड़े गये अपराधियों की पृष्ठभूमि क्या है और उनका सामाजिक स्तर किस प्रकार का है । क्या उन्हें किसी का राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है।

-चूंकि मामला गंभीर है इस कारण कोर्ट ने इस मामले की गुरुवार 11 अगस्त को दो बजे फिर सुनवाई करने का निर्देश दिया है।

-कोर्ट ने बुधवार को इस केस की सुनवाई महाधिवक्ता को यह बताने के लिए की थी कि सरकार इस सामूहिक बलात्कार कांड की जांच सीबीआई को भेजने में सहमत है या नहीं।

-कोर्ट द्वारा सीबीआई से जांच कराने के बावत पूछे जाने पर महाधिवक्ता ने कहा कि सरकार को सीबीआई जांच से परहेज नहीं है परन्तु इस जांच से जनता में यह संदेश जाता है कि प्रदेश सरकार की जांच एजेंसी पर भरोसा नहीं है।

-गौरतलब है कि राष्ट्रीय राजमार्ग 91 पर 30 जुलाई को बावरिया गिरोह के सदस्यों ने मां-बेटी के साथ सामूहिक बलात्कार किया था।

-मामले में पीड़ितों को तत्काल पुलिस सहायता नहीं मिली। मुख्यालय फोन करने पर पुलिस हरकत में आयी और पुलिस पर घटना को दबाने का भी आरोप लगा।

zafar

zafar

Next Story