हाईटेक होंगे अब प्रदेश के किसान, ऑनलाइन बेच सकेंगे अपना धान

Published by Published: September 18, 2017 | 1:27 pm
हाईटेक होंगे अब प्रदेश के किसान, ऑनलाइन बेच सकेंगे अपना धान

गोरखपुर: अब ऑनलाइन किसान ही सरकारी क्रय केंद्र पर अपना धान बेच सकेंगे। किसानों को नाम पते के साथ-साथ अपनी खेती से संबंधित ब्यौरा खाद्य एवं रसद विभाग के पोर्टल पर दर्ज कराना होगा। जो किसान अपना ऑनलाइन पंजीकरण नहीं कराएंगे, न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के तहत उनके धान की खरीद सरकारी क्रय केंद्र पर नहीं की जाएगी।

यह भी पढ़ें: योगी के गढ़ में किसानों और महिलाओं ने निकाली UP सरकार की शव यात्रा

धान खरीद वर्ष 2017-18 के लिए पूर्वी उत्तर प्रदेश में 1 नवंबर से धान की खरीद शुरू होगी। धान क्रय नीति जारी होने के बाद विभाग ने इसकी तैयारी भी तेज कर दी है। विभाग ने बिचौलियों पर शिकंजा कसने के लिए इस बार ऑनलाइन पंजीकृत किसानों से ही धान खरीद करने का निर्णय लिया है। इसके तहत किसानों को अपना धान बेचने से पहले विभाग के पोर्टल fcs.up.nic.in पर अपना ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा।

यह भी पढ़ें: योगी ने दी अधिकारियों को चेतावनी, किसानों की अनदेखी हुई तो खैर नहीं

कैसे करवा सकते हैं पंजीकरण
पोर्टल पर जाने के बाद किसानों को पांच चरण पूरे करने होंगे। पहले चरण के तहत किसानों को एक प्रोफार्मा भरना होगा, जिसमें किसानों के नाम, पते खतरा खतौनी के साथ-साथ कुछ अन्य जानकारियां देनी होंगी। दूसरे चरण में ड्राफ्ट किसान पंजीकरण प्रिंट प्रपत्र भरना होगा। तीसरे चरण में पंजीकरण से संबंधित ब्यौरे के संशोधन का विकल्प होगा। जबकि चौथे चरण में पंजीकरण लाक करने के बाद पांचवें चरण में पंजीकरण का फाइनल प्रिंट लिया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें: राजस्थान में 11 सूत्रीय मांगों के साथ कर्ज माफी को लेकर किसानों का आंदोलन जारी

यह काम किसान किसी भी जन सुविधा केंद्र या साइबर कैफे से करा सकते हैं। इस बार कि धान क्रय नीति में सरकार व विभाग ने तय कर दिया है कि जिस किसान ने ऑनलाइन पंजीकरण करा लिया है। उसी किसान से धान का क्रय किया जाएगा। पंजीकरण की इस कार्यवाही में किसी भी तरह की दिक्कत होने पर किसान टोल फ्री नंबर 1800-1800-150 जिला खाद्य विपणन अधिकारी तहसील पर तैनात क्षेत्रीय विपणन अधिकारी या फिर ब्लॉक के विपणन निरीक्षण से संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: कर्जमाफी कराने आए किसानों से रिश्वत लेता लेखपाल कैमरे में कैद, हुआ सस्पेंड

खरीद के वक्त भी हो जाएगा पंजीकरण
यूं तो उन्हीं किसानों से धान की खरीद की जाएगी, जिन्होंने पहले पंजीकरण करा लिया है। लेकिन किसानों की सहूलियत के लिए पंजीकरण का कार्य धान खरीद के वक्त भी किया जाएगा। धान लेकर केंद्र पर पहुंचने वाले किसानों का पहले पंजीकरण होगा। इसके बाद खरीद की जाएगी।

क्या है अधिकारियों का कहना
जिला खाद्य विपणन अधिकारी आर सी पांडे ने बताया कि धान क्रय नीति के तहत ऑनलाइन पंजीकृत किसानों सही न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के तहत धान की खरीद की जाएगी। पंजीकरण प्रक्रिया आरंभ हो गई है। कई किसानों ने पंजीकरण करा भी लिया है। किसानों को उस समय असुविधा से बचने के पहले ही पंजीकरण करा लेना चाहिए।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App