×

कुंभ: अंतिम शाही स्नान पर आस्था की डुबकी लगाने उमड़ रहा श्रद्धालुओं का रेला

धर्म, आध्यात्म और संस्कृति से लबरेज गंगा, यमुना एवं अदृश्य सरस्वती के पावन संगम में बसंत पंचमी के अन्तिम शाही स्नान पर्व पर आस्था की डुबकी लगाने के लिए  श्रद्धालुओं का रेला उमड़ने लगा है। मेला क्षेत्र में रामबाग स्टेशन, प्रयाग जंक्शन, इलाहाबाद जक्शन नैनी पुल एवं शास्त्री पुल की तरफ से देश एवं प्रदेश के विभिन्न जिलों से आस्था से लबरेज श्रद्धालुओं का रेला मेला क्षेत्र में शुक्रवार से ही आने लगा है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 9 Feb 2019 12:07 PM GMT

कुंभ: अंतिम शाही स्नान पर आस्था की डुबकी लगाने उमड़ रहा श्रद्धालुओं का रेला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आशीष पाण्डेय

कुंभ नगर: धर्म, आध्यात्म और संस्कृति से लबरेज गंगा, यमुना एवं अदृश्य सरस्वती के पावन संगम में बसंत पंचमी के अन्तिम शाही

स्नान पर्व पर आस्था की डुबकी लगाने के लिए श्रद्धालुओं का रेला उमड़ने लगा है। मेला क्षेत्र में रामबाग स्टेशन, प्रयाग जंक्शन, इलाहाबाद जक्शन नैनी पुल एवं शास्त्री पुल की तरफ से देश एवं प्रदेश के विभिन्न जिलों से आस्था से लबरेज श्रद्धालुओं का रेला मेला क्षेत्र में शुक्रवार से ही आने लगा है। मेले में कुछ लोग तो स्नान करके वापस भी जा रहे हैं लेकिन अधिकांश लोग मेले में ठौर तलाश रहे हैं और वह बसंत पंचमी पर संगम में पुण्य की डुबकी लगाने को आतुर हैं।

ये भी पढ़ें...कुंभ 2019: प्रकृति बचेगी तभी प्राणायाम संभव: स्वामी चिदानन्द

जहां तहां डेरा जमाएं हैं स्नानार्थी

कुंभ नगर में जहां अदभुत नजारे हैं तो वहीं आस्था की इस नई दुनिया में लोगों को ठण्ड और ओस भी रोकने में असमर्थ है। मेला क्षेत्र में बने रैन बसेरों से लेकर शास्त्री पुल के नीचे दालमण्डी की तरफ, दारागंज की तरफ अभी से लोग अपना झोला और सामान लेकर डेरा जमाने लगे हैं। जिसको देख कर रविवार को होने वाली भीड़ का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें... कुंभ- संगम तक आने जाने के लिए एक ही मार्ग, श्रद्धालुओं को हुयी परेशानी

भीड़ बढ़ती देख मेला प्रशासन भी हो गया है सक्रिय

बसंत पंचमी पर अन्तिम शाही स्नान होने के कारण जहां अखाड़ों को शाही स्नान कराने का जिम्मा है तो वहीं करोंड़ों की तादात में पहुंच रहे

श्रद्धालुओं को भी सकुशल संगम स्नान कराना प्रशासन के लिए चुनौती है। शुक्रवार से शुरू हुई भीड़ को बढ़ता देख शनिवार की शाम से ही मेला

प्रशासन ने कमर कस ली है।

मेलाधिकारी विजय किरन आनंद की माने तो बसंत पंचमी पर लगभग तीन करोड़ लोगों के स्नान का अनुमान है। मेले में भीड़ बढ़ रही है इसलिए प्रयास किया जा रहा है कि लोगों को स्नान कर मेला क्षेत्र से उनके गंतव्य को रवाना किया जा सके।

ये भी पढ़ें...कुंभ में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की जोरदार शुरुआत, लोगों ने जमकर उठाया आनंद

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story