Top

शादी के 14 साल बाद भी नहीं बनी मां तो पति ने जिंदा जलाया

Admin

AdminBy Admin

Published on 14 April 2016 7:05 AM GMT

शादी के 14 साल बाद भी नहीं बनी मां तो पति ने जिंदा जलाया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेलीः शादी के 14 साल बाद भी महिला मां नहीं बनी तो पति ने जिंदा जला दिया। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसकी मौत हो गई। महिला के भाई ने पति पर हत्या का आरोप लगाया है और ससुराल वालों के खिलाफ तहरीर दी है।

क्या था मामला?

-सुभाष नगर के पटेल विहार निवासी पंकज तहसीलकर्मी हैं।

-उन्होंने बहन रानी की शादी नवाबगंज निवासी अमित से की थी।

-रानी के औलाद न होने पर ससुराल के सभी लोग उसे ताना देते थे।

यह भी पढ़े...एक लाख रुपए के लिए बहू को जिंदा जलाया, चार महीने पहले हुई थी शादी

-पति, सास,जेठ और जेठानी आए दिन उसके साथ मारपीट भी करते थे।

-मंगलवार देर शाम रानी संदिग्ध परिस्थितयों में झुलस गई।

-अमित ने पंकज को सूचना दी कि रानी ने गुस्से में आग लगा ली है।

-पंकज जब वहां पहुंचे तो रानी की सांसे चल रही थी। उसने सारी घटना भाई को बता दी।

-अस्पताल में इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

-भाई ने हत्या का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरु कर दिया।

-उसका गुस्सा देख ससुराल वाले अस्पताल से चले गए।

-इसके बाद पंकज ने थाना नवाबगंज में पति,जेठ,जेठानी और सास के खिलाफ तहरीर दी।

यह भी पढ़े...मायके बात करने पर कटा 2 रुपए बैलेंस, सास-ननद ने बहू को जलाया जिंदा

ससुराल वालों ने कहा कि गुस्से में लगाई आग

-पोस्टमार्टम में मौजूद ससुराल वालों का कहना है कि रानी को गुस्सा बहुत आता था।

-मंगलवार को मामूली झगड़े के बाद उसने खुद को आग लगा ली।

-जब तक आग बुझाई जाती वह गंभीर रुप से झुलस गई थी।

-चौदह साल से साथ रह रहे थे, बच्चा नहीं होने का मलाल तो था।

-कभी दूसरी शादी के बारे में सोचा ही नहीं, रानी से मामूली कहासुनी हुई थी।

-इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया और मायके वालों को भी सूचना दी थी।

यह भी पढ़े...दहेज के लिए की 5 महिनें की प्रेग्नेंट बहु की हत्या, शव को जलाया

ससुराल वालों को नहीं लेने दिया शव

-रानी की मौत के बाद भाई और मायके पक्ष में भारी आक्रोश था।

-उनके गुस्से से डरे पति व ससुराल वाले पोस्टमार्टम हाउस तो पहुंचे, लेकिन दूर ही खड़े रहे।

-इस दौरान पति समेत किसी भी सदस्य को शव छूने तक नहीं दिया गया।

Admin

Admin

Next Story