Top

IIT कानपुर के शोध में दावा- कोरोना की तीसरी लहर होगी कम खतरनाक

कोरोना की तीसरी लहर के बारे में पदमश्री प्रो. अग्रवाल का कहना है कि कोरोना का असर बच्चों पर होगा, अभी ऐसा कुछ साफ नहीं है, यह केवल डराने वाली बात है।

Shreedhar Agnihotri

Shreedhar AgnihotriWritten By Shreedhar AgnihotriShivaniPublished By Shivani

Published on 18 May 2021 6:07 AM GMT

UK विशेषज्ञ का दावा, भारत से फैले कोरोना के B1.617.2 वेरिएंट पर वैक्सीन प्रभावी नहीं
X
कोरोना वायरस (फोटो साभार- सोशल मीडिया)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: अपने गणितीय फार्मूले से कोरोना का विश्लेषण कर भविष्यवाणी करने वाले आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर मणीन्द्र अग्रवाल ने कहा है कि कोरोना महामारी की तीसरी लहर इतनी खतरनाक नहीं होगी, जितनी इसकी दूसरी लहर। अपने गणितीय माडल से उन्होंने दावा किया है कि कोरोना के केस धीरे- धीरे अब और भी कम होते जाएगें। डाटा के आधार पर अपने गणितीय फॅार्मूले सूत्र से उन्होंने पहले ही कहा था कि मई में कोरोना के मामलों में बड़ी गिरावट आएगी।

कोरोना की तीसरी लहर के बारे में पदमश्री प्रो. अग्रवाल का कहना है कि कोरोना का असर बच्चों पर होगा अभी ऐसा कुछ साफ नहीं है, यह केवल डराने वाली बात है। उनका कहना है कि उन्होंने पिछले साल के कोरोना के संक्रमण के बढ़ते प्रभाव और प्रतिरोधक क्षमता को उस जिले की जनसंख्या और प्रतिरोधक क्षमता के आधार पर किया। खास बात यह है कि प्रोफेसर अग्रवाल ने मई में कोरोना का पीक धीरे-धीरे कम होने के बात उस समय कही थी, जब पूरे प्रदेश में कोरोना अपने पीक पर था और लोगों में काफी निराशा थी।

प्रोफेसर मणीन्द्र अग्रवाल की कोरोना पर जानकारी

आईआईटी कानपुर के कम्प्युटर सांइस इंजीनियिरिंग विभाग के प्रोफेसर पद्श्री मणीन्द्र अग्रवाल ने गत चार मई को ही बताया कि प्रदेश के सबसे अधिक कोरोना प्रभावित लखनऊ, कानपुर, वाराणसी और प्रयागराज आदि जिलों में कोरोना का ग्राफ 20 मई के बाद गिरेगा। जिस समय उन्होंने यह बात कही थी उस समय कोरोना अपने पीक पर था और हर रोज संक्रमण के केस दो से तीन हजार आ रहे थें।

इससे पहले वह कह चुके हैं कि जुलाई में कोरोना की दूसरी लहर खत्म हो जाएगी और फिर अक्टूबर में तीसरी लहर आएगी पर तीसरी लहर कितनी खतरनाक होगी इसके बारे में कुछ साफ नहीं हो पा रहा है। उन्होंने केन्द्र सरकार से तीसरी लहर के पहले ही अपनी पूरी तैयारियां करने का आग्रह किया है। उन्होंने फिर दोहराया कि यदि वैक्सीनेशन के साथ ही लोग मास्क का इस्तेमाल बेहद गंभीरता से करते रहे तो दूसरी लहर जल्द से जल्द खत्म हो जाएगी।
Shivani

Shivani

Next Story