अधिकारियों की मिलीभगत से हो रहा अवैध खनन, किसानों की भी फसल भी कर रहे बर्बाद

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में अवैध खनन पर रोक के बावजूद अधिकारियों की मिलीभगत से प्रतिदिन करोड़ों का चूना लगाया जा रहा है। यहां रात के अंधेरे में पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से खनन माफिया जमकर मिट्टी खनन करवा रहे हैं।

शाहजहांपुर: उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में अवैध खनन पर रोक के बावजूद अधिकारियों की मिलीभगत से प्रतिदिन करोड़ों का चूना लगाया जा रहा है। यहां रात के अंधेरे में पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से खनन माफिया जमकर मिट्टी खनन करवा रहे हैं। इतना ही नहीं खनन माफिया बेहद दबंग है और मिट्टी के डंपर निकालने के लिए किसानों की फसल को भी उजाड़ रहे हैं। खनन माफिया हर वक्त हथियारों से लैस रहते हैं। जब कोई किसान फसल बर्बाद का विरोध करता है तो उसको जान से मारने की धमकी देते हैं। खास बात ये है कि खनन अधिकरी को भी अवैध खनन की जानकारी रहती हैं, लेकिन मोटा कमीशन कार्रवाई पर बंदिश लगा देता है।

यह भी पढ़ें…..फेसबुक और व्हाट्सएप पर डाली युवती की आपत्तिजनक फोटो, केस दर्ज

खनन माफियाओं में प्रशासन का खौफ नहीं

दरअसल इस वक्त यूपी के शाहजहांपुर में जमकर अवैध खनन हो रहा है। खनन माफियाओं को अधिकारियों और पुलिस का बिलकुल भी खौफ नहीं रह गया है। यही वजह है कि रात के अंधेरे मे भी अवैध खनन करते हैं और दिन उजाले मे भी खुलेआम अवैध मिट्टी का खनन होता है। इस अवैध खनन के बारे में स्थानीय पुलिस और खनन अधिकारी को पूरी जानकारी रहती है, लेकिन कार्रवाई करने से सभी अधिकारी बचते रहते हैं। ये खनन थाना तिलहर के भेदपुर गांव में हो रहा है। रात के अंधेरे में यहां दो जेसीबी मशीने गरजती हैं और एक के बाद एक डंपर मिट्टी तय जगह पर डालकर आते हैं।

यह भी पढ़ें…..रेलवे ने रद्द की 338 ट्रेन, ट्रेनों की लिस्ट में देखें अपनी वाली का हाल

विरोध करने पर देेते हैं जान से मारने की धमकी

दबंग खनन माफिया अपने साथ खनन के वक्त हथियार भी रखते हैं। ताकि वह हर स्थिति से निपट सकें। ग्रामीणों का कहना है कि मिट्टी लेकर जब डंपर गांव के रास्तों से निकलते हैं, तो कुछ रास्ते खेत से निकालने पड़ते हैं। ऐसे में हथियार के बल पर दबंग खनन माफिया किसानों की फसल को उजाड़ देते हैं और रास्ते बना लेते हैं। अगर गांव वाले खनन माफियाओं का विरोध करते हैं तो उन्हे जान से मारने की धमकी दी जाती है। कई बार ग्रामीणों ने खनन अधिकारी से लेकर पुलिस और जिला प्रशासन से लिखित शिकायत की, लेकिन आज तक खनन माफियाओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब बेखौफ खनन माफिया बगैर किसी डर के खुलेआम सरकार को करोड़ों का चूना लगा रहे हैं जिसमें सरकार के अधिकारी भी साथ दे रहे हैं।

खनन अधिकारी ने कही ये बात

सबसे दिलचस्प बात ये है कि जब खनन अधिकारी अभय राजन से फोन पर बात की तो उनका कहना था कि तिलहर के भेदपुर गांव मे कोई परमिशन नहीं है जबकि उस जगह पर दो जेसीबी मशीने चल रही थीं, लेकिन खनन अधिकारी को फोन करने के कुछ मिनट बाद ही अवैध खनन बंद हो गया। खुद खनन माफिया जेसीबी मशीने लेकर चले गए और डंपर का आना जाना भी बंद हो गया।

 

इसी को कहते हैं कि जब मोटा कमीशन आता हो तो कार्रवाई पर बंदिश लग जाती है। आखिर कैसे खनन माफिया तक खबर पहुच गई कि मीडिया कर्मी कवरेज कर रहे हैं इसलिए काम को रोक दो? क्यों नहीं मौके पर अधिकारी और पुलिसकर्मियों ने पहुचने की जहमत उठाई? इससे साफ जाहिर होता है कि जिले भर मे अवैध मिट्टी खनन अधिकारियों की मिलीभगत से ही हो रहा है।

यह भी पढ़ें…..वास्तु दोष की वजह से भी होती है ये जानलेवा बीमारी,जानना है जरूरी

खनन अधिकारी अभय राजन ने बताया कि हमे जैसे ही अवैध खनन की शिकायत मिलती है तो उस शिकायत पर तत्काल कार्रवाई की जाती है। खनन को पकड़ने के लिए 6 अधिकारियों की कमेटी बनाई गई है। सूचना के आधार पर कार्रवाई की जाती है।