Top

INDO-PAK फेस्टिवल हुआ शुरू, लोग उठा रहे बिरयानी-कबाब का लुफ्त

By

Published on 21 May 2016 8:48 AM GMT

INDO-PAK फेस्टिवल हुआ शुरू, लोग उठा रहे बिरयानी-कबाब का लुफ्त
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगराः ताजनगरी में भारत-पाक लाइफ स्टाइल एंड फ़ूड प्रदर्शनी फेस्टिवल 'अमन के सात रंग' का आयोजन शुक्रवार से शुरू हो गया। इस प्रदर्शनी में भारत-पाकिस्तान के शिल्पी अपनी कला का प्रदर्शन कर रहे हैं। पाकिस्तान और लखनऊ की बिरयानी और कबाब का जायका भी लोग जमकर ले रहे हैं।

दो देशों की कड़वाहट कम कर रहा है आगरा

-आगरा इन दिनों दो मुल्कों में अमन और प्यार के रंग भरने में लगा हुआ है।

-भारत-पाक के बीच समय समय पर कड़वाहट पैदा होती रही हैं।

-इस कड़वाहट पर आगरा मरहम लगाता नजर आ रहा है।

ये भी पढ़ें...250 सौ साल पुराना है आगरा का ये हनुमान मंदिर, एक बार खुलता है कपाट

चार दिवसीय प्रदर्शनी का आयोजन

-राज्य सरकार की मदद से चार दिवसीय भारत-पाक लाइफ स्टाइल एंड फ़ूड प्रदर्शनी फेस्टिवल का आयोजन पालीवाल पार्क में किया गया है।

-प्रदर्शनी में भारत -पाकिस्तान के शिल्पियों की एंब्रायडरी, ज्यूलरी, चप्पल और ऑनेक्स की कलाकृतियो की लोग जमकर खरीददारी कर रहे हैं।

पाक की बादशाही ड्रेस भी है उपलब्ध

-प्रदर्शनी में पाक के खैरपुर जिले के मशहूर परिधान हैं।

-कभी वहां के हुक्मरानों द्वारा बादशाही ड्रेस बनवाए जाते थे।

-पाक-अफगान में पाए जाने वाले बहुरंगी पत्थर ओनेक्स, मार्बल यहां लाए गए हैं।

ये भी पढ़ें...धूल खा रही हैं रानी विक्टोरिया की 3 मूर्तियां, इटली से आईं थीं आगरा

-इससे बने लैम्प, कप, ग्लास, लैम्प शेड, क्राकरी समेत सैकड़ों वस्तुएं शामिल हैं।

-प्रदर्शनी में सिन्धी कढ़ाई, कॉटन से लेकर सिल्क तक सभी प्रकार के परिधान उपलब्ध हैं।

खाने के शौक़ीन लोगों के लिए है पूरा इंतजाम

यहां करांची के शकील अहमद रेशमी कबाब, मटन कोरमा, बोटी कबाब मटन, चिकन जैसे खानों का स्वाद लोगों के दे रहे हैं। करांची के अलहाज बुंदू खान की सिंधी बिरयानी, बेहारी कबाब, रूमाली रोटी, चिकन बिरयानी का भी लोग जायका ले रहे हैं तो वहीं लखनऊ स्टाल पर जमजम बिरयानी, सामी कबाब, कुल्चा लोगों को खूब पसंद आ रहा है।

ये भी पढ़ें...तीन दिन फ्री होंगे ताज के दीदार, खुलेगा मुमताज की कब्र का रास्ता

क्या कहना है पाकिस्तान से आए व्यापारियों का?

-करांची से कपड़े लेकर आईं मेहमूदा नदीम ने कहा कि इस बार कई किस्म के कपड़े लेकर आए है।

-करांची के ही इरशाद कहते हैं कि आगरा आने का उद्देश्य कोई व्यापार करना नहीं है।

-हम चाहते हैं दोनों देशों के बीच अमन और शांति कायम हो।

Next Story