×

खनन के बाद अब रिवर फ्रन्ट घोटाले की जांच ने पकड़ी रफ़्तार

लोक सभा चुनाव 2019 से ठीक पहले ईडी ने रिवर फ्रंट घोटाले की जाँच तेज़ कर दी है। यूपी, दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान में ईडी एक साथ छापेमारी कर घोटाले से जुड़े दस्तावेज़ों को अपने क़ब्ज़े में लिया है। मार्च 2018 में ईडी ने 513 करोड़ के रिवर फ्रंट घोटाले की एफआईआर दर्ज की थी जिस में रूप सिंह यादव, शिव नारायण सिंह और पीएल वर्मा समेत आधा दर्जन इन्जीनियरों को नामज़द करते हुए कई अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी।

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 24 Jan 2019 2:56 PM GMT

खनन के बाद अब रिवर फ्रन्ट घोटाले की जांच ने पकड़ी रफ़्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: लोक सभा चुनाव 2019 से ठीक पहले ईडी ने रिवर फ्रंट घोटाले की जाँच तेज़ कर दी है। यूपी, दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान में ईडी एक साथ छापेमारी कर घोटाले से जुड़े दस्तावेज़ों को अपने क़ब्ज़े में लिया है। मार्च 2018 में ईडी ने 513 करोड़ के रिवर फ्रंट घोटाले की एफआईआर दर्ज की थी जिस में रूप सिंह यादव, शिव नारायण सिंह और पीएल वर्मा समेत आधा दर्जन इन्जीनियरों को नामज़द करते हुए कई अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी।

यह भी पढ़ें.....यूपी खनन घोटाला मामले हमीरपुर की पूर्व डीएम बी चंद्रकला को ईडी का समन

लोक सभा चुनावों से ठीक पहले ईडी ने लखनऊ, नोयडा, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान में छापेमारी कर 513 करोड़ रूपए के रिवर फ्रंट घोटाले से जुड़े दस्तावेज़ों को क़ब्ज़े में लिया है। लखनऊ में एक राजनीतिक दल से जुड़े विधायक के भाई के रिशू कांस्ट्रक्शन के मालिक सिद्धार्थ सिंह, विकासनगर स्थित कार्यदायी संस्था गैमन इण्डिया, मण्डियाओं और राजाजीपुरम में एक साथ छापेमारी कर घोटाले से जुड़े कागज़ात को क़ब्ज़े में लिया है। इस के अलावा नोयडा में भी ईडी ने तीन स्थानों पर छापेमारी कर घोटाले से जुड़े दस्तावेजों को कब्जे में लिया है। लखनऊ, नोयडा के साथ ही राजस्थान, दिल्ली और हरियाणा में भी छापेमारी की गई है।

यह भी पढ़ें.....एक तरफ CBI की छापेमारी और ईडी की FIR, दूसरी तरफ जारी है UP में अवैध खनन

इस से पहले खनन घोटाले में सीबीआई ने आईएएस अधिकारी बी चन्द्रकला समेत आधा दर्जन स्थानों पर छापेमारी की थी। विपक्षी इस कार्रवाई को राजनीतिक लाभ के लिए की गई कार्रवाई बता रहे थे। अब ईडी की कार्रवाई के बाद टाईमिंग को लेकर सवाल उठ रहे हैं। कि आखिर एन चुनाव से पहले एक साल पहले दर्ज हुई एफआईआर पर अचानक कार्रवाई कैसे शुरू कर दी गई।

यह भी पढ़ें.....नदी-प्रदूषण और खनन रोकने को जल सत्याग्रह, स्वामी ज्ञान स्वरूप सानन्द के समर्थन में उतरे लोग

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story