×

योगी को रास आ रहा बिहारी टच, यूपी पुलिस में बिहारी अफसरों का जलवा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Feb 2018 4:19 PM GMT

योगी को रास आ रहा बिहारी टच, यूपी पुलिस में बिहारी अफसरों का जलवा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शारिब जाफरी

लखनऊ : यूपी पुलिस में बिहार के मूल निवासी आईपीएस अफसरों का जलवा है। जिलों में तैनात एसएसपी से लेकर राज्य की कानून व्यवस्था और यूपी पुलिस के मुखिया की कुर्सी पर इन का ही कब्ज़ा है। जो पुलिस महकमे में चर्चा बटोर रहा है।

दिलचस्प है कि ज़िलों में तैनाती चाहने वाले अफसर भी इन दिनों बिहारी कनेक्शन की तलाश में हैं। हम यह बात यूं ही नहीं कह रहे हैं, बल्कि इंटेलीजेंस, पुलिस भर्ती बोर्ड, एडीजी क्राइम, एसटीएफ और टेक्निकल सर्विस जैसे अहम पदों के मुखिया के पद पर भी वहीं के अफसर काबिज हैं। यही नही एसएसपी गोरखपुर भी बिहार के ही हैं। इसी लिए कहा जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ सरकार को सरकारी मशीनरी में बिहारी टच रास आने लगा है।

डीजी से लेकर महत्वपूर्ण पदों पर बिहार का कब्ज़ा

यूपी पुलिस में बिहार के अफसरों को इन दिनों खासी तरजीह मिल रही है। यूपी पुलिस के मुखिया ओम प्रकाश सिंह 1983 बैच के आईपीएस अफसर है और गया बिहार के रहने वाले है। डीजी पुलिस के बाद दूसरे नम्बर पर माने जाने वाले इंटेलीजेंस विभाग के मुखिया भावेश कुमार सिंह भी सहरसा बिहार से है। भर्ती बोर्ड की ज़िम्मेदारी मुंगेर बिहार के रहने वाले गिरीश प्रसाद शर्मा के कन्धों पर है। हजारी बाग बिहार के रहने वाले महेंद्र मोदी डीजी टेक्निकल सर्विस हैं। यूपी की कानून व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी निभा रहे अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यस्था आनन्द कुमार भी पटना बिहार से हैं। प्रदेश भर के अपराधियों का शजरा रखने वाले अपर पुलिस महानिदेशक अपराध चंद्रप्रकाश सीवान बिहार और आपातकालीन सेवा यूपी100 के मुखिया आदित्य मिश्रा पटना बिहार से हैं।

जोन में भी बिहार के अफसरों को तरजीह

डीजीपी, एडीजी कानून व्यवस्था, एडीजी क्राइम के साथ जोन में भी बिहार के अफसर छाए हुए हैं। एडीजी जोन मेरठ प्रशान्त कुमार सीवान बिहार, एडीजी जोन आगरा अजय आनन्द पटना बिहार से हैं। पुलिस महानिरीक्षक मुरादाबाद बिनोद कुमार सिंह पटना बिहार, पुलिस महानिरीक्षक बरेली ध्रूव कान्त ठाकुर मधेपुरा बिहार, आईजी लखनऊ सुजीत पाण्डेय पटना बिहार के रहने वाले हैं। अपराधियों के खिलाफ अभियान चलाने वाली यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश भोजपुर बिहार से है तो पुलिस महानिरीक्षक क्राइम यूपी सुवेंद्रा कुमार भगत धनबाद बिहार के रहने वाले हैं।

लखनऊ और गोरखपुर एसएसपी भी बिहार के

सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार को सरकारी मशीनरी में बिहारी टच किस कदर रास आ रहा है, इस का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार बेगूसराय बिहार से लेकर मिनी राजधानी के नाम पहचाने जा रहे सीएम के गृह जनपद गोरखपुर के एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज भी रोहतास बिहार के रहने वाले हैं। एसएसपी सहारनपुर बबलू कुमार मधुबनी बिहार, एसपी सम्भल रवि शंकर छवि रोहतास बिहार, पुलिस अधीक्षक जौनपुर केशव कुमार चौधरी दरभंगा बिहार, कुंतल किशोर पुलिस अधीक्षक अमेठी, गया बिहार, एसपी जालौन अमरेंद्र सिंह वैशाली बिहार और पुलिस अधीक्षक आम्बेडकर नगर संतोष कुमार मिश्रा पटना बिहार से हैं।

अबतक आपको समझ आ चुका होगा कि जातिवाद के बाद अब सीएम योगी को बिहारवाद रास आने लगा है। देखने वाली बात ये होगी कि आगे योगी क्या गुल खिलाते हैं।

इसके बाद अब सिर्फ यही सुना जा सकता है

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story