Top

पठानकोट के बाद गोरखपुर एयरबेस आतंकी निशाने पर, कॉम्बिंग जारी !

पठानकोट में हुए आतंकी हमले में गोरखपुर कनेक्शन सामने आने के बाद सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर हैं। नेपाल बॉर्डर के पास इंडियन एयरफोर्स के स्ट्रेटेजिक गोरखपुर एयरबेस पर भी आतंकी खतरा मंडरा रहा है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 25 Jan 2016 7:03 AM GMT

पठानकोट के बाद गोरखपुर एयरबेस आतंकी निशाने पर, कॉम्बिंग जारी !
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर. पठानकोट में हुए आतंकी हमले में गोरखपुर कनेक्शन सामने आने के बाद सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर हैं। नेपाल बॉर्डर के पास इंडियन एयरफोर्स के स्ट्रेटेजिक गोरखपुर एयरबेस पर भी आतंकी खतरा मंडरा रहा है। इसके मद्देनजर एयरबेस के आसपास कॉम्बिंग ऑपरेशन चलाए जाने की खबर है। इसमें एयरफ़ोर्स, गोरखा रेजिमेंट और स्थानीय पुलिस के अधिकारियों के शामिल होने की बात सामने आई है। इस दौरान सबसे चौंकाने वाली जो बात सामने आई है वो ये है कि पठानकोट एयरबेस की रेकी करने वाला आईएसआई एजेंट गोरखपुर में ही मौजूद था और मेरठ में एजाज के पकड़े जाने से पहले ही वो सुरक्षा एजेंसियों के रडार से ओझल हो गया।

पठानकोट में आतंकी हमले के तार यूपी से भी जुड़े हैं। दिसंबर में मेरठ से पकडे गए आईएसआई एजेंट एजाज ने पूछताछ में सुरक्षा एजेंसियों को बताया था कि उसकी ही तरह पूरे देश में इंडियन एयरफोर्स के एयरबेस की जानकारी जुटाने के लिए उसके कई और साथियों को लगाया गया था। इस मामले से जुड़े एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने बताया कि इन्हीं में से एक आईएसआई एजेंट ने पठानकोट एयरबेस की रेकी कर इंफॉर्मेशन पकिस्तान भेजी थी। अधिकारी ने इस एजेंट का नाम बताने से इनकार कर दिया। ये आईएसआई एजेंट भी एजाज की तरह सुरक्षा एजेंसियों के रडार पर आया था। ये एजेंट कुछ दिन बाद एजेंसियों के रडार से गायब हो गया। इसकी लास्ट लोकेशन गोरखपुर की बताई जा रही है।

क्यों खतरे में है गोरखपुर एयरबेस ?

* गोरखपुर एयरफोर्स स्टेशन नेपाल सीमा के काफी पास स्थित है।

* चीन से हमले के हालात में ये एक स्ट्रेटेजिक एयरबेस है।

* छत्तीसगढ़ और झारखंड में नक्सली गतिविधियों पर निगाह रखने के लिए स्पेशल स्क्वॉड्रन तैनात है।

* इस एयरबेस को पाकिस्तानी आईएसआई के साथ ही नेपाली माओवादियों से भी खतरा है।

* नेपाल में बिगड़े हालात के बाद बॉर्डर से घुसपैठ की संभावना बढ़ गई है।

* इस एयरबेस के चारों ओर कुसम्ही जंगल स्थित है।

* इससे इसकी सिक्युरिटी और भी संवेदनशील बन जाती है।

कैसे बढ़ाई गई है यहां की सिक्युरिटी?

* आतंकी हमले की आशंका को देखते हुए आईजी सुरक्षा ने सिक्युरिटी बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

* गोरखपुर एयरबेस से सटे एयरपोर्ट पर भी सिक्युरिटी अरेंजमेंट बढ़ा दिए गए हैं।

* एक सीसीटीवी, दो डीएफएमडी (डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर), तीन एचएचएमडी (हैंड हेल्ड मेटल डिटेक्टर) बढ़ाए गए हैं।

* साथ ही तीन पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाई गई है।

* पहले यहां 8 सीसीटीवी, तीन डीएफएमडी, 11 एचएचएमडी और 22 पुलिसकर्मी तैनात थे।

Newstrack

Newstrack

Next Story