Top

VIDEO: जेलर की मनमर्जी,बेहाल हैं कैदी, सब डिस्ट्रिक जेल या जल्‍लादघर?

Admin

AdminBy Admin

Published on 8 April 2016 12:51 PM GMT

VIDEO: जेलर की मनमर्जी,बेहाल हैं कैदी, सब डिस्ट्रिक जेल या जल्‍लादघर?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

महोबा: सब डिस्ट्रिक जेल कैदियों के लिए जल्लाद का घर बन गया है। विवादों में रहने वाले महोबा जेल में जेलर की मनमर्जी के चलते कैदी बेहाल हैं। मजाल है कोई जेलर की मांग को इनकार कर दे यदि की तो सजा भी भयानक मिलती है। सूत्रों की मानें तो जेल में अपराधियों को आराम चाहिए तो जेलर की मुट्ठी गर्म कर दीजिए फिर शराब,कबाब, जुआ और नशे का भी मजा लीजिए।

महोबा जेल में ऐसी शिकायतें अब आम हो गई हैं,लेकिन कार्यवाही के नाम पर आज तक जेलर को कोई सजा नहीं मिली। जेलर की इसी करतूतों के कारण जेल सचिव ने कड़ी फटकार लगाई थी जिसपर जेलर ने सार्वजानिक रूप से हाथ जोड़कर माफी भी मांगी थी, लेकिन इसके बाद भी जेलर आंनद सिंह के कारनामे थमने का नाम नहीं ले रहे।

पैसा न देने पर मिलती है सजा

-जेल में कैदियों से पैसों की वसूली होती है, पैसा न देने पर कैदियों की पिटाई होती है।

-जेलर और उसका खास बंदी अन्य कैदियों की पिटाई करते हैं।

-कैदियों को कभी लोहे के रॉड से पीटा जाता है तो कभी बाथरूम में बंद करने का फरमान तो कभी गर्म सलाखों की मार।

-लेकिन कोई कार्यवाही न होने से जेलर आज भी कैदियों पर कहर ढा रहा है।

यह भी पढ़ें... जेल में महिला कैदी ने लगाई फांसी, देवर की हत्या के आरोप में थी बंद

जेल में हुई ये वारदातें

नवंबर 2015 को प्रिंस नाम के कैदी को जेलर आंनद सिंह ने की थी बेरहमी से पिटाई,कैदी ने कोर्ट में भी की थी शिकायत !

अक्टूबर 2015 को जेल के अंदर आशू भदौरिया और धीरेंद्र सिंह को भी पैसे न देने पर जेलर ने बड़ी बेरहमी से पिटाई की थी। ये मामला भी कोर्ट में पहुंचा था और कैदियों का हॉस्पिटल में इलाज हुआ था

अक्टूबर 2015 को जेल में बार बालाओं के अश्लील डांस का वीडियो वायरल हुआ था।

मार्च 2016 को कमान के पैसे न देने पर बच्चा बैरक में बंद कैदी दलित टिंकू को भी जेलर ने पीटा था। तंग आकर टिंकू ने जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या का प्रयास किया था। डाक्टरों ने उसकी जान बचाई थी। रिहाई होने से पहले फिर टिंकू को जेलर ने बेहरमी से पीटा। पीड़ित का जिला हॉस्पिटल में इलाज हुआ था।

इन सभी शिकायतों पर जब जेल का निरीक्षण करने जेल सचिव पहुंचे तो जेलर आनंद सिंह ने सार्वजानिक रूप से अपनी गलती की माफी मांगी थी और सुधरने का एक मौका भी मांगा था।

जेलर पर लगे आरोप

-महोबा की सब डिस्ट्रिक जेल विवादों के चलते सुर्ख़ियों में बना रहता है।

-जेल में कई बार जेलर की तानाशाही और मारपीट की शिकायतें कैदियों ने की हैं।

-जेलर आनंद सिंह की करतूतों की लिस्ट भी बहुत लंबी है।

-जेल के अंदर होने वाले गैरकानूनी काम भी हमेशा चर्चा में रहते हैं।

-जेल में जुआ,शराब और गांजे के नशे का भी काम हो रहा है।

-इसकी शिकायत कई बार कैदियों ने अधिकारियों से की मगर नतीजा सिफर रहा।

-यहीं वजह है कि जेलर के हौसलें बढ़ते जा रहे हैं।

Admin

Admin

Next Story