×

सोती रही यूपी सरकार, हत्यारे अगस्त ने निगल ली ढाई हजार से ज्‍यादा जान

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 Sep 2017 9:43 AM GMT

सोती रही यूपी सरकार, हत्यारे अगस्त ने निगल ली ढाई हजार से ज्‍यादा जान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : उत्‍तर प्रदेश में योगी सरकार बनते ही स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की प्रेजेंटेशन देखी गई। इसमें बड़े दावे किए गए। इसमें स्‍वाइन फ्लू और जेई (जापानी इंसेफ्लाइटिस) जैसे गंभीर रोगों को प्रदेश से पूरी तरह खत्‍म करने की चर्चा भी हुई। लोगों की उम्‍मीद थी कि अब प्रदेश में ये दोनों गंभीर बीमारियां कहर नहीं बरपा पाएंगी।

ये भी देखें: इस्तीफे पर उमा बोलीं- मैंने ये सवाल सुना ही नहीं, न सुनूंगी, न जवाब दूंगी

लेकिन अगर स्‍वाइन फ्लू और जेई के केसों और मौतों के आंकडे चौंका देने वाले हैं। इन मौतों में ज्‍यादा संख्‍या बच्‍चों की है। इसके बाद भी जब सूबे के सीएम खुलेआम ये बयान देते हैं, कि लोग अपने बच्‍चों को पालने की जिम्‍मेदारी भी सरकार पर छोड़ देंगे तो निश्चित रूप से एक बड़ा सवाल जहन में उठता है–कि क्‍या सरकार में आम जनता की वास्‍तविकता में कोई सुनवाई हो रही है या नहीं...

ये भी देखें:CII बैठक: योगी आदित्यनाथ बोले- UP में इंडस्ट्री के लिए अनुकूल माहौल

ये भी देखें:सूर्य प्रताप सिंह- BJP संगठन में भी साफ झलकती है प. यूपी की राजनीतिक उपेक्षा

स्‍वाइन फ्लू के 2 हजार से ज्‍यादा मामले, लखनऊ अव्‍वल

प्रदेश में अब तक स्‍वाइन फ्लू के 2 हजार पांच सौ बीस मामले प्रकाश में आए हैं और पंजीकृत हुए हैं। इसमें हैरानी की बात ये है, कि 1450 मामले अकेले राजधानी से हैं। इनमें से पिछले 24 घंटों में ही 38 नए मामले पंजीकृत हुए हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि राज्‍य सरकार के स्‍वाइन फ्लू पर लगाम लगाने के सारे दावे हवा हवाई साबित हो रहे हैं और इस रोग की चपेट में आकर अब तक करीब 5 दर्जन लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और यह सिलसिला बदस्‍तूर जारी है।

ये भी देखें:डोनाल्ड ट्रंप से बेहतर राष्ट्रपति साबित हो सकती मेरी 4 साल की बेटी : किम कर्दशियां

ये भी देखें:रिलीज हुआ ‘जुड़वां 2’ का ‘सुनो गणपति बप्पा मोरया’, वरुण लगा रहे मदद की गुहार

खुद बीजेपी नेता भी स्‍वाइन फ्लू की चपेट में

यूपी में योगी सरकार बनने के बाद आम जनता ही नहीं बल्कि माननीय भी इसकी चपेट में आ चुके हैं। इसमें बीजेपी के सरधना विधायक संगीत सोम खुद स्‍वाइन फ्लू की चपेट में आ चुके हैं। इतना ही नहीं समाजवादी पार्टी के एमएलसी सुनील सिंह साजन, कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता पीएल पुनिया तक इसकी जद में आ चुके हैं।

ये भी देखें:बुझती है पूर्वजों की प्यास, जब करते हैं तर्पण और श्राद्ध, इस बार हुई पितृपक्ष की तिथि कम

इसी बीमारी के चलते राष्‍ट्रीय लोक दल के दिवंगत प्रदेश अध्‍यक्ष मुन्‍ना सिंह चौहान का 1 अगस्‍त 2016 को देहावसान हो गया था। माननीयों के साथ ही सरकारी अस्‍पतालों के डाक्‍टर और कर्मचारी तक इस रोग की चपेट में आ चुके हैं। सरकार इस पर अंकुश लगाने के दावे तो कर रही है परंतु इसके रोगियों की संख्‍या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। लेकिन इसके बाद भी स्‍वाइन फ्लू के आगे प्रदेश सरकार नतमस्‍तक दिखाई पड़ रही है।

ये भी देखें:महंगाई का एक और झटका: आज से 73 रूपए महंगा हुआ घरेलू सिलेंडर

ये भी देखें:UP सुधारे अमेठी-रायबरेली, बिहार बनाए हजार-हजार टॉयलेट : रिपोर्ट

जेई ने छीन लीं 10 हजार जिंदगियां

योगी सरकार में जापानी इंसेफ्लाइटिस के कहर को रोकने के बड़े वादे हुए लेकिन सरकारी आंकड़ो पर ही गौर करें तो प्रदेश के 38 जिलों के जेई के कहर के चलते संवेदनशील घोषित करके टीकाकरण का कार्य शुरू किया गया। इसके बावजूद जेई के केसों में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं आ रही है। इसके उलट जेई पीडितों की संख्‍या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। इनमें भी जेई पीडितों में 90 प्रतिशत से अधिक बच्चे शामिल हैं। इसमें बड़ी संख्‍या में पूर्वी उत्‍तर प्रदेश से केस सामने आ रहे हैं।

ये भी देखें:पूनम पांडे बनना चाहती है मैक्सिम फाइनेस्ट, ऐसे कर सकते है वोट

ये भी देखें:झारखंड में इंसेफलाइटिस, निमोनिया से 800 से ज्यादा बच्चों की मौत

खुद सीएम के गृह जनपद गोरखपुर में लोगों को टीकाकरण की जानकारी तक नहीं है।ऐसे में सरकार द्वारा चलाया जा रहा टीकाकरण अभियान कितना प्रभावी है, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है।

सरकारी आंकडो के मुताबिक अब तक जेई से प्रदेश में करीब 10 हजार जानें जा चुकी हैं। उसमें भी साढ़े 6 हजार से अधिक बच्‍चे काल के गाल में समा चुके हैं।हालांकि गैर सरकारी संख्‍या इससे कहीं ज्‍यादा है।

ये भी देखें:… और जब योगी के मंत्री ने खुद की सरकारी बस की धुलाई, आप भी देखिए

सरकार नोटिफिकेशन जारी करके ठोंक रही पीठ

योगी सरकार ने इन दो गंभीर बीमारियों से बचने के लिए नोटिफिकेशन जारी करके अपनी पीठ ठोंकना शुरू कर दिया है। इनमें सरकार ने स्‍कूलों में असेंबली न करवाने, फुल स्लीव कपड़े पहनने से लेकर मास्‍क का उपयोग करने की नसीहत दी थी। इसके लिए प्रदेश सरकार के जिला विद्यालय निरीक्षकों और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने अपने अपने जनपद में नोटफिेकेशन जारी करते हुए कहा था, कि सरकार का मकसद बच्‍चों को इन गंभीर रोगों की चपेट में आने से बचाना है।

ये भी देखें:लसिथ मलिंगा के 300वें वनडे शिकार बने भारतीय कप्तान विराट कोहली

ये भी देखें:लॉकहीड मार्टिन ने दिया भारत में F-16 लड़ाकू विमान बनाने का ऑफर

लखनऊ डीआईओएस डा. मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि हमने इस संबंध में शासन के निर्देशों के अनुरूप एहतियात के तौर पर ऐसा निर्देश जारी किया है। इसके अलावा हर स्‍कूल में एक शिक्षक को इसका नोडल शिक्षक बनाया गया है कि वह बच्‍चों को इस संबंध में जागरूक करे।

ये भी देखें:17 साल बाद कैरेबियाई टीम ने इंग्लैंड में रचा इतिहास, 5 विकेट से जीता टेस्ट

पर बड़ा सवाल ये है कि महज नोटिफिकेशन जारी करने और टीकाकरण अभियान को शुरू कर देने भर से सरकार के कर्तव्‍यों की इतिश्री कैसे हो सकती है, वो भी तब जब इन गंभीर रोगों के आंकडो में कोई कमी होती नहीं दिख रही है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story