शिक्षकों पर पैनी नजरः अगर आपने हाल में बदला है पैन नंबर तो हो जाएं सावधान

परिषदीय स्कूलों में कई शिक्षक फर्जी डिग्रियों के सहारे नौकरी हासिल करने में कामयाब हो गए हैं। जांच के बाद विभिन्न जनपदों में शिक्षकों को बर्खास्त भी किया गया है।

झाँसी। बेसिक शिक्षा विभाग में नियुक्तियों में फर्जीवाड़े का मामला प्रकाश में आने के बाद विभागीय अधिकारी शिक्षकों की कई स्तरों से स्क्रूटनी करने में जुट गए हैं। विभागीय अफ़सरों की पैनी नज़र उन शिक्षकों पर है जो पैन नम्बर बदलते रहते हैं पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों का उदासीनता से ऐसे शिक्षकों की सूची ही तैयार नहीं हो पा रही है।

जनपदों में शिक्षकों को बर्खास्त किया

शिक्षा निदेशक (बेसिक) इससे खफ़ा हैं और उन्होंने प्रदेश के समस्त जनपदों के बीएसए को पैन नंबर बदलने वाले शिक्षकों की सूची जल्द उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।परिषदीय स्कूलों में कई शिक्षक फर्जी डिग्रियों के सहारे नौकरी हासिल करने में कामयाब हो गए हैं। जांच के बाद विभिन्न जनपदों में शिक्षकों को बर्खास्त भी किया गया है। वहीं पिछले दिनों अनामिका शुक्ला के शैक्षिक प्रमाणपत्रों का दुरुपयोग करके फर्जी तरीके से कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में शिक्षिकाओं की नौकरी हासिल करने का सनसनीखेज मामला सामने आने के बाद बेसिक शिक्षा विभाग की जमकर किरकिरी हुई। इसके बाद विभाग फर्जी शिक्षकों पर पैनी नजर रखे हुए है।

इंदिरा गांधी पर विधानसभा अध्यक्ष की बड़ी बात, आपात काल के 45वर्ष पूरे होने पर कहा ये

मामला शिक्षा निदेशक (बेसिक) तक पहुंचा

इसी कड़ी में कुछ माह पूर्व सचिव, बेसिक शिक्षा परिषद ने प्रदेश के समस्त जनपदों के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों से ऐसे शिक्षकों की सूची तलब की गई थी जो वर्ष 2013 के बाद से पैन नंबर बदल रहे हैं लेकिन अधिकांश जिलों के बीएसए ने ऐसे शिक्षकों की सूची तैयार करने में दिलचस्पी नहीं दिखाई। इससे सचिव ने बीएसए को जमकर फटकार लगाते हुए पत्र भी जारी किया था जिसमें कहा गया था कि केवल सुल्तानपुर, बिजनौर, अमरोहा, एटा, भदोही, बस्ती, चंदौली जिलों के बीएसए ने ही ऐसे शिक्षकों की सूची उपलब्ध कराई। अन्य जिलों के बीएसए विभागीय कार्य में लापरवाही व शिथिलता बरत रहे हैं। इसके बाद यह मामला शिक्षा निदेशक (बेसिक) तक पहुंच गया।

निदेशक डॉ सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने सभी जिलों के बीएसए को पत्र जारी कर निर्देश दिए हैं कि वे कोषागार से ऐसे शिक्षकों की सूची हासिल करें जिन्होंने वर्ष 2013 के बाद से पैन नंबर बदला है। उन्होंने ऐसे शिक्षकों की सूची शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद अब विभिन्न जिलों में उन शिक्षकों का रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है जिन्होंने अपना पैन नंबर बदला है। सूत्रों का कहना है कि इससे फ़र्जी शिक्षकों की धरपकड़ में मदद मिलेगी।

विद्युत विभाग के महाप्रबंधक से मिला कांग्रेसी प्रतिनिधिमंडल

भारत सरकार के पूर्व मंत्री प्रदीप जैन आदित्य के नेतृत्व में काग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल विद्युत विभाग के महाप्रबंधक मनोज पाठक से मिला और महानगर में व्याप्त विद्युत समस्याओं पर चर्चा की।

भारत सरकार के पूर्व मंत्री प्रदीप जैन आदित्य ने कहा कि नगर में कर्मचारियों की छंटनी की जा रही है जो व्यावहारिक रूप से उचित नहीं है, क्योंकि कर्मचारियों की संख्या पहले से ही पर्याप्त नहीं है और यदि कर्मचारी हटा दिए जाएंगे तो उसका सीधा प्रभाव उपभोक्ता पर पड़ेगा। आज भी संसदीय क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति केवल इसलिए प्रभावित होती है कि कर्मचारियों की संख्या कम है हम चाहते हैं कि सरकार द्वारा घोषित आपूर्ति का जो मानक तय है उसके अनुसार बिजली उपभोक्ताओं दी जाए।

ये लोग थे शामिल

शहर अध्यक्ष कॉन्ग्रेस अरविंद वशिष्ठ ने कहा कि सरकार एक तरफ तो बेरोजगारी खत्म करने और नौकरी देने के बात कह रही है लेकिन यथार्थ में इन 90 आउट सोर्स पर लगे कर्मचारियों की छटनी करना समझ से परे है यदि इन्हें नौकरी से निकाल दिया जाता है तो इनका घर कैसे चलेगा क्योंकि इन्होंने अपनी जिंदगी के कई साल विद्युत विभाग की सेवा करते हुए गुजार दिए हमारी मांगे हैं कि इन्हें नौकरी से नहीं निकाला जाए क्योंकि इसका प्रभाव उनके परिवार पर ही नहीं बल्कि महानगर की विद्युत व्यवस्था पर भी अनुकूल नहीं पड़ेगा। इस अवसर पर वरिष्ठ नेता राजेंद्र रेजा, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य मनीराम कुशवाहा आदि लोग शामिल रहे हैं।

रिपोर्टर- बी के कुशवाहा, झाँसी

भारत-चीन में तनाव: देश में धुंआंधार राजनीति, चिंदबरम ने मोदी सरकार से पूछे ये सवाल

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें