×

Jhansi News: परेशानी थी तो मुझे बताती.., युवती के फांसी लगाने पर बिलखते हुए बोले परिजन

Jhansi News: अगर बहन को किसी प्रकार की परेशानी थी तो मुझे जरुर बता दे थी, लेकिन नहीं बताई। बहन तुमने फाँसी क्यों लगाई, ऐसा कदम क्यों उठाया, जिससे पूरा परिवार काफी दुखी है।

B.K Kushwaha
Published on: 21 Feb 2024 12:27 PM GMT
jhansi news
X

झांसी में युवती ने फांसी लगाकर किया सुसाइड (न्यूजट्रैक)

Jhansi News: अगर बहन को किसी प्रकार की परेशानी थी तो मुझे जरुर बता दे थी, लेकिन नहीं बताई। बहन तुमने फाँसी क्यों लगाई, ऐसा कदम क्यों उठाया, जिससे पूरा परिवार काफी दुखी है। यह कहना है कि युवती की बहनों का। बहनों व पिता का रो-रोकर बुरा हाल है। सूचना पर गई प्रेमनगर थाने की पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया।

प्रेमनगर थाना क्षेत्र के पोस्ट आफिस के पास रामगोपाल शाक्या परिवार समेत रहता है। पिता रामगोपाल राजमिस्त्री है। रामगोपाल ने बताया कि उसकी तीन बेटियां हैं। बड़ी बेटी मीनाक्षी डबरा में रहकर एक स्कूल में पढ़ती है और दूसरी बेटी लक्ष्मी झाँसी महानगर में मिशन कम्पाउंड में स्थित रति हॉस्पिटल में काम करती है। तीसरी बेटी उमा पढ़ने में काफी होशियार थी, उसने आईटीआई और ग्रेजुएशन किया था। वह नौकरी करना चाहती थी, लेकिन उसके मन मुताबिक नौकरी नहीं मिल रही थी।

बीच वाली बेटी ने उमा को अपने साथ काम करने के लिए कहा था लेकिन वह वहां काम करने के लिए तैयार नहीं हुई। उस पर नौकरी करने का कोई दवाब नहीं था। इसके बाद भी वह परेशान रहती थी। रोज की तरह आज यानि बुधवार की सुबह वह अपने काम पर चले गए और बीच वाली बेटी लक्ष्मी अपने काम पर अस्पताल निकल गई। मां मंदिर गई हुई थी। उमा घर में अकेली थी। मां जब लौटकर घर आई तो देखा उमा फांसी पर लटक रही है। यह देख उसके होश उड़ गए। रोते हुए उसने इसकी जानकारी लक्ष्मी और उसे दी। जानकारी होते ही वह मौके पर और इसकी सूचना पुलिस को दी गई। मौक पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

बालाजी का भक्त था परिवार

बताया जा रहा है कि मृतका का परिवार बालाजी का भक्त था। रोते-बिलखते हुए बहन अपनी मां से कहती थी कि बाबाजी से कहो कि अब बेटी को जिंदा कर दो। उसकी बहन ने ऐसा क्यों कर लिया है और फिर रोते-रोते बेसुध हो जाती थी।

हम नहीं रहेंगे अपनी बहन के बिना

लक्ष्मी कभी अपनी बहन के गले लिपटकर रो रही थी तो कभी मां का हाथ पकड़कर कहती थी कि वह उसके बिना नहीं रह सकती है। उमा को कोई परेशानी थी तो उसे बताती लेकिन उसने ऐसा कदम क्यों उठा लिया है। वह अपनी बहन के बिना नहीं रह सकती है।

Shishumanjali kharwar

Shishumanjali kharwar

कंटेंट राइटर

मीडिया क्षेत्र में 12 साल से ज्यादा कार्य करने का अनुभव। इस दौरान विभिन्न अखबारों में उप संपादक और एक न्यूज पोर्टल में कंटेंट राइटर के पद पर कार्य किया। वर्तमान में प्रतिष्ठित न्यूज पोर्टल ‘न्यूजट्रैक’ में कंटेंट राइटर के पद पर कार्यरत हूं।

Next Story