Top

JNU के स्टूडेंट ने किया सुसाइड, पुनर्जन्म लेने की कर रहा था बातें

Admin

AdminBy Admin

Published on 11 March 2016 5:35 AM GMT

JNU के स्टूडेंट ने किया सुसाइड, पुनर्जन्म लेने की कर रहा था बातें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली: मीरगंज तहसील के धनेटा में रहने वाले स्टूडेंट ने दिल्ली के दक्षिण जिले के वसंत विहार इलाके में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। बरेली के इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी से एमएससी करने के बाद उसने जेएनयू के एक प्रोफेसर की देखरेख में प्रोजेक्ट पूरा किया था। स्टूडेंट की मौत के बाद एक लेटर मिला है जिसमें पुनर्जन्म की बातें लिखी हैं। पुलिस प्रेम प्रसंग की बात कह रही है। फिलहाल, शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

क्या है मामला

-बरेली के धनेटा में रहने वाले सिक्योरिटी गार्ड का बेटा दुष्यंत दीक्षित है।

-वह दिल्ली के बेर सराय के गार्डियन हॉस्टल में रहता था।

-गुरुवार को पुलिस को सूचना मिली कि एक छात्र ने फांसी लगा ली है।

-हॉस्टल के चौथी मंजिल पर कमरा नंबर 602 में छात्र ने पंखे के जरिये रस्सी से फांसी लगा रखी थी।

-पुलिस को कमरे से एक सुइसाइड नोट मिला है।

-पड़ोस के कमरे में रहने वाले छात्रों का कहना था कि वह जेएनयू का छात्र था।

-हालांकि जेएनयू प्रशासन ने छात्र की खुदकुशी पर संवदेना व्यक्त करते हुए कहा है कि वह जेएनयू का छात्र नहीं था।

नौकरी मिलने की थी उम्मीद

-कुछ महीनों में दुष्यंत को मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी मिलने का भरोसा था।

-चाची प्रतिज्ञा ने कहा कि वह बेहद मिलनसार और खुशमिजाज लड़का था।

-मीरगंज और बरेली में भी पढ़ाई के दौरान कभी किसी से उसका झगड़ा नहीं हुआ।

-होनहार दुष्यंत की आंखो में बड़ा अफसर बनने का सपना था।

-उसकी खुदकुशी कर लेने की बात किसी के भी गले से नीचे नहीं उतर रही हैं।

-वह कहता था कि छोटी नौकरी करके ही बडा़ अफसर बनने का सपना पूरा किया जा सकता हैं।

-जेएनयू में दाखिला लेने के लिए भी उसने दिन-रात मेहनत की थी।

इकलौते बेटे की मौत से मचा कोहराम

-इकलौते बेटे की मौत से परिवार में कोहराम मच गया हैं।

-15 दिन पहले ही वह घर से गया था।

-मां से अक्सर कहता था कि पांच माह में वह प्रोफसर बन जाएगा।

-इस घटना ने पूरे परिवार को तोड़ दिया हैं।

-दुष्यंत के पिता सतपाल दीक्षित इफ्को आंवला में सिक्योरिटी गार्ड हैं।

-वह शुरु से ही पढ़ाई में होनहार था।

-उसकी पढ़ाई के बाद परिजन अपने अच्छे दिनों की उम्मीदें लगाए बैठे थे।

-सुसाइड से पहले उसने मां से बात की थी,लेकिन उसकी बात से नहीं लगा कि वह ऐसा कदम उठा सकता हैं।

-घटना की सूचना मिलते ही पिता सतपाल कुछ लोगों के साथ दिल्ली रवाना हो गए।

क्या कहती हैं पुलिस

-शुरुआती जांच में ये बात सामने आई है कि दुष्यंत ने किसी युवती के चलते खुदकुशी की है।

-हालांकि पुलिस को इसकी पूरी वजह पता नहीं लग पाई है।

-दुष्यंत धार्मिक किस्म की बातें ज्यादा करता था।

-उसने सुइसाइड नोट में लिखा है कि लोगों का पुनर्जन्म होता है और वह भी पुनर्जन्म लेगा।

Admin

Admin

Next Story