Top

PM की सिफारिश भी संदीप के काम न आई, मोदी को भेंट की थी लकड़ी की गीता

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 20 July 2016 9:51 AM GMT

PM की सिफारिश भी संदीप के काम न आई, मोदी को भेंट की थी लकड़ी की गीता
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुरः पीएम मोदी को लकड़ी की गीता बनाकर भेंट करने वाले संदीप सोनी इन दिनों बैंक के चक्कर काट रहे हैं। विकास योजना के तहत कारपेंटरी का प्लांट लगाने के उनके प्लान पर बैंक अधिकारी पानी फेर रहे है। संदीप ने प्रधानमंत्री ईजीपी योजना के तहत 25 लाख के लोन के लिए अप्लाई किया था। बैंक अधिकारी फार्मेल्टी के नाम पर रोजाना चक्कर लगवा रहे हैं। संदीप का कहना है कि वह इसकी शिकायत पीएमओ आॅफिस और राज्यपाल को पत्र लिख कर करेंगे।

यह भी पढ़ें... कारपेंटर ने लकड़ी पर लिखे गीता के 706 श्‍लोक, PM मोदी ने मिलने बुलाया

geeta

संदीप सोनी के मुताबिक

-मैंने 8 मार्च 2016 को पीएम मोदी जी से मिलकर उन्हें लकड़ी की गीता भेंट की थी।

-तब उन्होंने मुझसे पूछा था कि संदीप तुम क्या करना चाहते हो तुम्हारी इस प्रतिभा से मैं बहुत प्रभावित हूं।

-मैंने उनसे कहा था कि मैं एक कारपेंटरी का प्लांट लगाना चाहता हूं।

-सैकड़ोें युवा उससे जुड़ेंंगे , उनको रोजगार मिलेेगा और इससे सैकड़ों परिवारों के घरों में चूल्हा जलेेगा।

-इस बात से वह बहुत प्रभावित हुए और उनको कहा जाओ पीएमओ के डायरेक्टर ब्रिजेन्द्र नौनित से मिलो और उनको अपना प्रोजेक्ट बताओ वह तुम्हारी मदद करेंगे।

-ब्रिजेन्द्र की नौनित से डेढ़ घंटे तक बात हुई और उनको अपना प्रोजेक्ट बताया।

sandeep

-10 दिन बाद ही राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम में पीएमओ आॅफिस से एक लेटर आया तो निगम के कमिश्नर राकेश केसरवानी मेरे घर आए।

-उन्होंने बताया कि संदीप तुम्हारे नाम से पीएमओ आॅफिस से लेटर आया है।

-तुम अपना प्रोजेक्ट बताओ और इसमें कितना खर्च आएगा।

-संदीप ने 84 लाख का खर्च बताया तो उन्होंने कहा इस प्रोजेक्ट को लिखकर आगे फॉरवर्ड करता हूं।

-इसके बाद नई दिल्ली उद्योग भवन से एक लेटर आया जिसमें प्रधानमंत्री ईजीपी योजना के तहत 25 लाख का लोन था।

-इसमेंं 25 प्रतिशत सब्सिडी देने का प्रावधान था।

-संदीप ने बताया कि यह लेटर लेकर मैं कमिश्नर राकेश केसरवानी के पास गया और कहा कि सर मेरा यह लोन करा दीजिये इसमें 25 प्रतिशत सब्सिडी मिल रही है।

-उन्होंने फ़ौरन इसका प्रोजेक्ट बनाकर बैंक आफ बड़ौदा विश्व बैंक शाखा बर्रा के लिए फॉरवर्ड कर दिया।

बैंक ने संदीप से क्या कहा

-संदीप ने बताया कि जब लोन के लिए बैंक आॅफ बड़ौदा गए तो उन्होंने कहा कि मैं इतनी बड़ी रकम नहीं दे सकता हूं।

-लेकिन पीएमओ जुड़े हुए मामले को ध्यान में रखते हुए बैंक 25 लाख का लोन देने के लिए राजी हो गया।

-अब फार्मेल्टी पूरी करने के नाम पर बैंक के चक्कर काटने का सिलसिला शुरू हो गया।

-बैंक प्रबंधक विनय श्रीवास्तव ने कहा कि जहां पर अपना प्लांट लगाना चाहते हो उसकी नगर निगम से एनओसी लेकर आओ।

संदीप की मां सरस्वती के मुताबिक

-संदीप कई साल तक गीता बनाने में परेशान रहा।

-वह पूरे दिन नौकरी करके आता और फिर रात में लकड़ी की गीता बनाने में जुट जाता था। इसके बाद वह पीएम को गीता भेंट करने के लिए दर-दर भटकता रहा।

-जब पीएम ने गीता भेंट कर दिया तो वह लोन के लिए भटक रहा है।

-उन्होंने कहा कि देश के पीएम ने अपना काम कर दिया लेकिन अफसरशाही भारी पड़ रही है।

-आखिर मेरा बेटा देश के हित के लिए ही सोच रहा है ,तब उसको इतना परेशान किया जा रहा है ।

Newstrack

Newstrack

Next Story