Top

Kanpur Dehat News: पूर्व प्रधान ने अपात्रों को आवंटित कराया कीमती जमीन, तहसील कर्मचारी भी लिप्त जानिए पूरा मामला

यूपी में लूटपाट और अवैध कब्जे की घटनाएं दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। इन दिनों कानपुर देहात रसूलाबाद तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत मेघझाल से एक खबर आई है।

Manoj Singh

Manoj SinghReporter Manoj SinghShwetaPublished By Shweta

Published on 16 Jun 2021 3:11 PM GMT

Kanpur Dehat News: पूर्व प्रधान ने अपात्रों को आवंटित कराया कीमती जमीन, तहसील कर्मचारी भी लिप्त जानिए पूरा मामला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Kanpur Dehat News: यूपी में लूटपाट और अवैध कब्जे की घटनाएं दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। इन दिनों कानपुर देहात रसूलाबाद तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत मेघझाल से एक खबर आई है। बताया जा रहा है कि यहां के पूर्व प्रधान ने तहसील कर्मचारियों की सांठगांठ से ग्राम पंचायत की सैकड़ों बीघा भूमि को अपने कब्जे में ले लिया है और अपने करीबियों में बांट दिया है।

यह पूरा मामला कानपुर देहात के तहसील रसूलाबाद क्षेत्र के ग्राम पंचायत मेघझाल का है। यहां के ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए बताया है ग्राम पंचायत के पूर्व प्रधान ने तहसील के कर्मचारियों से मिलकर ग्राम पंचायत की सैकड़ों बीघा जमीन अपात्र लोगों को पात्र बना कर जमीन का आवंटन कर दिया गया। इसके लिए पूर्व प्रधान ने सभी को मोटी रकम दिया है। सिर्फ इतना ही नहीं ग्रामीणों ने आगे कहा कि इस बात की शिकायत वह लोग साल 2018 से कर रहे हैं। लेकिन कोई भी तहसील कर्मचारी सुनने को तैयार नहीं है।

ग्रामीणों का कहना है कि वे सभी लोग चाहते हैं कि अवैध तरीके से आवंटन किया गया है उसको निरस्त कराया जाए और पात्र गरीब लोगों को आवंटन किया जाए। लेकिन पैसा व दबंगई के चलते पूर्व प्रधान ने अपनी मनमानी की है और उनका सहयोग तहसील के कर्मचारियों ने किया है।

दर्जन भर लोग बेशकीमती जमीन पर निर्माण कार्य कर रहे हैं। जिसको तत्काल प्रभाव से बंद कराया जाए और पुनः जांच कराई जाए। जिसकी शिकायत हम ग्रामीण लोग सैकड़ों बार तहसील से लेकर जिला अधिकारी तक कर चुके हैं लेकिन हम ग्रामीणों को आश्वासन ही मिलता है। लेकिन सवाल फिर वही उठता है क्या पात्र और अपात्र को जानते हुए भी तहसील के कर्मचारियों ने अनसुनी की है या फिर ग्राम पंचायत के प्रधान के कहने पर यह तो जांच का विषय ही बताएगा।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Next Story