×

कानपुर: महात्मा गाँधी ने तिलक हॉल का किया था उद्घाटन, स्वच्छता के प्रति किया था जागरूक 

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 2 Oct 2018 6:46 AM GMT

कानपुर: महात्मा गाँधी ने तिलक हॉल का किया था उद्घाटन, स्वच्छता के प्रति किया था जागरूक 
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर: तिलक हॉल कांग्रेस पार्टी का केंद्र रहा है आजादी के पहले से आजादी के दिवानो ने बड़ी-बड़ी योजनाओ को बनाकर उन्हें फर्श पर उतारने का काम किया है। पंडित जवाहर लाल नेहरु ने तिलक हॉल का शिलान्यास किया था l जब तिलक हॉल बनकर तैयार हुआ तो महात्मा गाँधी ने इसका उद्घाटन किया था। महात्मा गाँधी अपने प्रवास के दौरान झाड़ू लगाकर लोगो को जागरूक करने के सफाई अभियान भी चलाया था। जिसमे बड़ी संख्या में शहरवसी इस अभियान का हिस्सा बने थे। तिलक हॉल लोकमान्य बालगंगाधर तिलक के याद में बनवाया गया था। लोकमान्य बालगंगाधर तिलक कानपुर से बहुत गहरा रिश्ता था बड़ी संख्या में उनके प्रसंसक कानपुर में थे और वो अक्सर कानपुर आते रहते थे।

यह भी पढ़ें .....दिल्ली में आयोजित होगा महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छता सम्मेलन

कानपुर क्रांतिकारियों की भूमि रही है यहाँ की मिट्टी से क्रांतिकारियों का अटूट रिश्ता रहा है। मोकमान्य गंगाधर तिलक की कानपुर में क्रांतिकारियों की बड़ी फ़ौज थी। उनके एक आवाहन पर हजारो क्रन्तिकारी खड़े रहते थे। जब लोकमान्य बालगंगाधर तिलक का 1920 में निधन हो गया तो क्रांतिकारियों में शोक की लहर दौड़ पड़ी। तभी कानपुर में उनके समर्थको ने एक स्मारक बनवाने का निश्चय किया। इसके लिए पूरे शहर से चंदा इकठ्ठा किया गया। पंडित जवाहर लाल नेहरु ने सन 1931 में तिलक हॉल का शिलान्यास किया। तिलक हॉल के निर्माण में पैसो की कमी की वजह से तीन साल का वक्त लग गया। जब तिलक हॉल बनकर तैयार हुआ महात्मा गांधी ने 24 जुलाई सन 1934 में तिलक हॉल का उद्घाटन किया था l

यह भी पढ़ें .....नियम व शर्तें लागू : महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर कैदियों को विशेष माफी

तिलक हॉल कांग्रेस पार्टी का सबसे अहम् हिस्सा है आजादी के पहले से लेकर वर्तमान में भी कांग्रेस पार्टी अपनी सभी मीटिंग इसी कार्यालय में करती है। चुनाव से लेकर धरना प्रदर्शन तक की रणीनीति यही पर तैयार की जाती है। इस हॉल के बिना कांग्रेस पार्टी की कल्पना करना भी मुस्किल है।

कांग्रेस पार्टी का 40 वा अधिवेशन 1925 को कानपुर में हुआ था ,उस वक्त गाँधी जी अधिवेशन को संबोधन को सुनने के लिए शहर भर की जनता इकठ्ठा हुई थी। इसके बाद गाँधी एक पत्नी कस्तूरबा गाँधी के साथ भी कानपुर आ चुके है। तब वो तीन दिन के प्रवास में थे ,इस दौरान उन्होंने तिलक नगर सफाई अभियान के लिए लोगो को जागरूक करने के लिए सफाई अभियान भी चलाया था। लोगो को जागरूक करने के उन्होंने खुद झाड़ू उठाकर सफाई करने का जिम्मा लिया था। बापू को झाड़ू लगाते पूरा शहर झाड़ू लेकर घरो से बाहर निकल आया था।

यह भी पढ़ें .....लखनऊ से हुई भारतीय राजनीतिक क्षितिज पर गांधी युग की शुरुआत

पूर्व कांग्रेस जिलाध्यक्ष हरप्रकाश अग्नोहोत्री का कहना है कि कानपुर का तिलक हॉल किसी मंदिर से कम नही है। इसकी गरिमा को बनाये रखना हम सभी कर्त्तव्य है ,लेकिन नई पीढ़ी इस दिशा में कम ध्यान दे रही है। लेकिन जब तक कांग्रेस की शान रहे बुजुर्ग नेता है इसकी मर्यादा सदैव बनी रहेगी। उन्होंने बताया कि इस तिलक हॉल में महात्मा गाँधी ,पंडित जवाहर लाल नेहरु ,इंदिरा गाँधी ,राजीव गाँधी समेत कांग्रेस के सभी वरिष्ट नेता आ चुके है।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story