×

कार्तिक पूर्णिमा: काशी के घाटों पर उमड़ी आस्था की भीड़, लाखों लोगों ने लगाई गंगा में डुबकी

कार्तिक पूर्णिमा के पावन अवसर पर बनारस के विश्व प्रसिद्ध घाटों पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा है। श्रद्धालुओं की भीड़ से लगभग सभी प्रमुख घाट पटे पड़े हैं।

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 23 Nov 2018 5:26 AM GMT

कार्तिक पूर्णिमा: काशी के घाटों पर उमड़ी आस्था की भीड़, लाखों लोगों ने लगाई गंगा में डुबकी
X
पूजा सामग्री के साथ भगवान की पूजा करें और तुलसी पत्र चढ़ाएं।इसके बाद सत्यनारायण भगवान की कथा कर के नैवेद्य लगाएं और आरती के बाद प्रसाद बांटें।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

वाराणसी: कार्तिक पूर्णिमा के पावन अवसर पर बनारस के विश्व प्रसिद्ध घाटों पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा है। श्रद्धालुओं की भीड़ से लगभग सभी प्रमुख घाट पटे पड़े हैं। सुबह से ही लोग पतित पावनी गंगा में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं। साथ ही प्रमुख मंदिरों में भी दर्शन-पूजन का कार्यक्रम चल रहा है। कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान का विशेष महत्व है।

देर रात से ही घाटों पर जमे श्रद्धालु

गंगा स्नान के लिए देश के कोने-कोने से लाखों की संख्य़ा में श्रद्धालु वाराणसी पहुंचे हैं। काशी के दशाश्वमेध, शीतला, अस्सी, अहिल्याबाई घाट, राजेंद्र प्रसाद घाट सहित प्रमुख घाटों पर श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है।

यह भी पढ़ें: विदेशियों में बढ़ने लगा है देव दीपावली का क्रेज, मोदी ने किया ग्लोबलाइज

गुरुवार की देर रात से ही श्रद्धालु गंगा घाटों पर जमा हो गए। इसके बाद ब्रह्मूहर्त में गंगा-स्नान का दौर शुरु हो गया। लोग घाटों पर दान-ध्यान कर रहे हैं। कार्तिक पूर्णिमा के दिन दान का विशेष महत्व है। इस दिन जो भी दान किया जाता है उसका कई गुना पुण्य प्राप्त होता है।

क्या है गंगा स्नान की मान्यता

मान्यता तो यह भी है कि इस दिन व्यक्ति जो भी दान करता है वह मृत्युपरांत स्वर्ग में उसे पुन: प्राप्त होता है। शास्त्रों के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन भगवान श्रीहरि ने मत्स्यावतार के रूप में प्रकट हुए थे।

यह भी पढ़ें: काशी की जमीं पर दिखेगा ‘जन्नत’ का नजारा, CM भी बनेंगे इस खास पल के गवाह

भगवान विष्णु के इस अवतार की तिथि होने की वजह से आज किए गए दान, जप का पुण्य दस यज्ञों से प्राप्त होने वाले पुण्य के बराबर माना जाता है। बाबा भोलेनाथ की नगरी काशी में भी गंगा घाटों पर श्रद्धालुओं ने श्रद्धा-भक्ति से स्नान किया।

सुरक्षा के पुख्ता इतंजाम

कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान के लिए लाखों लोग काशी पहुंचे हुए हैं। शहर के हर कोने में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखी जा रही है। इसके मद्देनजर घाटों पर सुरक्षा के खास इतंजाम किए गए हैं।

यह भी पढ़ें: प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल बोले- पहले हम गांव-गांव चले, अब पांव-पांव चलेंगे

स्टेशन से लेकर घाटों तक पुलिस प्रशासन अलर्ट मोड में है। घाटों पर गंगा में बैरिकेडिंग की गई है। जल पुलिस के जवान लगातार चक्रमण कर रहे हैं।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story