Top

जादूगर का पेड़ा खाकर बच्चा हुआ बेहोश,बंद किस्मत खोलने का कर रहा था दावा

Admin

AdminBy Admin

Published on 16 March 2016 6:19 AM GMT

जादूगर का पेड़ा खाकर बच्चा हुआ बेहोश,बंद किस्मत खोलने का कर रहा था दावा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुरः जादूगर का पेड़ा खायेगा तो बंद किस्मत का दरवाजा खुल जाएगा, जब नाबालिग ने पेड़ा खाया तो वह बेहोश हो गया। राहगीरों ने उस नाबालिग को प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया। वहीं तमासा दिखाने वाले जादूगर को पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया। डाक्टरों ने कहा यदि समय पर बच्चे को भर्ती नहीं कराया जाता तो कुछ भी हो सकता था।

v.p.1

क्या है मामला

-नौबस्ता थाना क्षेत्र के इमलीपुर गांव में रहने वाले शंकर सिंह के बेटे वीपी सिंह (17) है।

-उसकी सागरपुरी में मोबाइल की शॉप है।

-मंगलवार शाम साढ़े चार बजे वीपी सिंह अपने घर जा रहा था।

-केडीए कालोनी के पास फुटपाथ पर एक तमाश बीन जादू दिखा रहा था।

-तमाशा दिखा रहे जादूगर को राहगीरों ने घेर रखा था।

-भीड़ देख कर वीपी सिंह भी वहां पर खड़े हो कर देखने लगा।

-जादूगर गोलू ने भीड़ से वीपी सिंह को बुलाया और उसे खेल का हिस्सा बनने को कहा।

-खेल का हिस्सा ना बनने पर बोला कि इसका अंजाम बहुत बुरा होगा।

vp

-वीपी सिंह दहसत में उसके सामने बैठ गया।

-जादूगर ने डमरू बजाते हुए कहा कि बोल क्या खायेगा तो वीपी सिंह ने जवाब दिया पेड़ा।

-जादूगर ने हाथ की सफाई दिखाते हुए पेड़ा उसके सामने रख दिया।

-उसने वीपी सिंह को पेड़ा खिलाया,पेड़ा खाते ही वह बेहोश हो गया।

-लड़के के बेहोश होते ही जादूगर और वहां खड़े तमाशबीनों के हाथ पैर फूल गए।

-राहगीरों ने जादूगर और उसके एक साथी इरफ़ान को पकड़ लिया।

-बेहोश लड़के को फ़ौरन एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

क्या कहता है जादूगर

-जादूगर गोलू ने कहा कि मैं और मेरा भांजा इरफ़ान हम दोनों मसवानपुर के रहने वाले हैं।

-हम दोनों इसी तरफ से तमाशा दिखा कर अपनी जीविका चलाते हैं।

-पेड़ा मैं अपने साथ लाया था, लेकिन हाथ की सफाई से पेड़ा निकाल कर उसके सामने रखा था।

-यह पेड़ा सागरपुरी में सर्वेश हलवाई की दुकान से ख़रीदा था।

-यह पेड़ा कब का बना था, इसकी जानकारी नहीं है।

v.

क्या कहते हैं डॉक्टर

-वीपी सिंह का इलाज कर रहे डॉ. डीके साहू का कहना है कि बच्चे को फ़ूड प्वॉजिनिंग हुई है।

-इसको समय पर भर्ती नहीं कराया जाता तो प्रॉब्लम हो सकती थी।

-लेकिन अब वह खतरे से बाहर है।

-इसके साथ ही उसका वीपी भी लो हो गया था।

v.p.

क्या कहती है पुलिस

-सीओ गोविन्द नगर विशाल पाण्डेय ने कहा कि बच्चे के परिजनों ने जादूगर के खिलाफ कोई तहरीर नहीं दी है।

-खिलाए गए पेड़े के सैंपल लैब जांच के लिए भेजे जा रहे हैं।

-उस रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

-परिजनों की तहरीर आती है तो जादूगर पर भी कार्रवाई की जाएगी।

Admin

Admin

Next Story