×

शामली किसान आंदोलन: दिल्ली के लिए निकले सैकड़ों भाकियू कार्यकर्ता, बड़ी तैयारी

शामली से भी सैकड़ों की तादाद में भारतीय किसान यूनियन के सैंकड़ो कार्यकर्ता राहत सामग्री लेकर ट्रैक्टर ट्रॉली पर रवाना हुए। किसानों का कहना है कि जब तक तीनों कृषि कानून वापस नहीं होते तब तक किसान दिल्ली पर डटे रहेंगे और कानून वापस नही हुए तो आने वाले वसंत पंचमी और वैशाखी का त्योहार भी वह आंदोलन के बीच मनाएंगे।

Ashiki
Updated on: 18 Jan 2021 1:41 PM GMT
शामली किसान आंदोलन: दिल्ली के लिए निकले सैकड़ों भाकियू कार्यकर्ता, बड़ी तैयारी
X
किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए निकले सैंडको भाकियू कार्यकर्ता
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

शामली: तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार किसान संगठनों का विरोध जारी है और किसान आंदोलन को लेकर जैसे-जैसे दिन बढ़ते जा रहे हैं किसानों की संख्या भी दिल्ली में उतनी ही बढ़ती हुई नजर आ रही है। आज जनपद शामली से भी सैकड़ों की तादाद में भारतीय किसान यूनियन के सैंकड़ो कार्यकर्ता राहत सामग्री लेकर ट्रैक्टर ट्रॉली पर रवाना हुए। किसानों का कहना है कि जब तक तीनों कृषि कानून वापस नहीं होते तब तक किसान दिल्ली पर डटे रहेंगे और कानून वापस नही हुए तो आने वाले वसंत पंचमी और वैशाखी का त्योहार भी वह आंदोलन के बीच मनाएंगे।

ये भी पढ़ें: बलिया में बोले अजय लल्लू, जुमलों की बुनियाद पर टिकी है भाजपा सरकार

ढोल नगाड़ों के साथ किसानों ने किया दिल्ली कूच

शामली के थाना आदर्श मंडी क्षेत्र के गांव सिलावर से सैकड़ों की तादात में किसान इकट्ठा होकर दिल्ली में गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में सम्मिलित होने के लिए ट्रैक्टर और ट्रॉली ऊपर रवाना हो गए। किसान अपने साथ दो ट्रैक्टर ट्रॉली में किसान आंदोलन में चलने वाले लंगर के लिए खाद्य सामग्री भी लेकर निकले हैं और पूरे ढोल नगाड़ों के साथ किसानों ने गांव से दिल्ली के लिए कूच किया।

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/01/WhatsApp-Video-2021-01-18-at-14.34.40.mp4"][/video]

गांव सिलावर से करीब 50 से 100 ट्रैक्टरों का काफिला दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसानों के आंदोलन को अपना समर्थन देने के लिए रवाना हो गया इस बीच किसान ढोल नगाड़ों के साथ गांव से निकले और ग्रामीणों ने भी किसान आंदोलन में जाने के लिए गांव से निकले किसानों की हौसला अफजाई की गांव से निकले किसानों ने कहा कि वह दिल्ली में गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसानों के आंदोलन में शामिल होने के लिए जा रहे हैं और उन्हें अपना पूर्ण समर्थन देंगे।

ये भी पढ़ें: जौनपुर: उच्च शिक्षा की गुणवत्ता, राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 पर हुई चर्चा

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/01/WhatsApp-Video-2021-01-18-at-14.34.41.mp4"][/video]

किसानों का कहना यह भी है कि अगर सरकार द्वारा पारित किए गए तीनों कृषि कानून वापस नहीं लिए जाते तो वह आगामी बसंत पंचमी और बैसाखी का त्यौहार भी आंदोलन के बीच में ही मनाने का मन बना चुके हैं। किसान संगठनों के 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर परेड निकालने की घोषणा के बाद से ही लगातार धीरे-धीरे किसान दिल्ली की ओर कूच कर रहे हैं और जनपद शामली के गांव सिलावर से किसानों का इस तरह ट्रैक्टर ट्रॉली में खड़ा होकर किसान आंदोलन में सम्मिलित होने के लिए जाना इस बात की ओर इशारा भी कर रहा है।

रिपोर्ट: पंकज प्रजापति

Ashiki

Ashiki

Next Story