×

हर भारतीय के मन में एक ही सवाल, क्या कुलभूषण को फांसी दे सकता है पाकिस्तान?

aman

amanBy aman

Published on 18 May 2017 1:21 PM GMT

हर भारतीय के मन में एक ही सवाल, क्या कुलभूषण को फांसी दे सकता है पाकिस्तान?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: पाक जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने के खिलाफ याचिका पर भारत को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट (आईसीजे) में बड़ी सफलता मिली है। हेग स्थित आईसीजे ने अंतिम फैसला सुनाए जाने तक जाधव की फांसी पर रोक लगाए रखने का आदेश दिया है। हालांकि, पाकिस्तान ने इस फैसले को मानने से इनकार कर दिया है।

ये भी पढ़ें ...कुलभूषण जाधव केस: भारत की बड़ी जीत, ICJ ने अंतिम फैसले तक फांसी पर लगाई रोक

ऐसे में ये सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर अब पाकिस्‍तान का अगला कदम क्या होगा? क्‍या वो कुलभूषण को फांसी दे सकता है? जानकारों की मानें तो अब अंतरराष्‍ट्रीय कोर्ट के आदेश के बाद पाकिस्‍तान ऐसा करने से बचेगा।

सरबजीत का मामला भूले नहीं

यूं तो, पाकिस्‍तान संयुक्त राष्ट्र (यूएन) का और इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) का सदस्‍य देश है। इसलिए वह कानूनी तौर पर अब जाधव को फांसी देगा, इसकी गुंजाइश कम है। लेकिन पाक जेल में बंद किसी कैदी के साथ क्‍या हो सकता है, इस मामले में उसका रिकॉर्ड बहुत खराब रहा है। इसलिए इस बात की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है कि जाधव पर जेल में ही हमला हो जाए। उल्लेखनीय है कि पाक जेल में बंद सरबजीत सिंह के ऊपर कैदियों ने ही हमला कर दिया था जिससे उनकी मौत हो गई थी।

ये भी पढ़ें ...कुलभूषण जाधव केस में ICJ का फैसला मंजूर नहीं, भारत को करेंगे बेनकाब: पाकिस्तान

पाक कर सकता है खेल

कुलभूषण जाधव पर अभी आईसीजे का अंतिम फैसला आना बाकी है। खबरों की मानें, तो अगस्‍त महीने में जाधव पर अंतिम फैसला आ सकता है। ऐसे में तीन महीने की लंबी अवधि है, जिसमें पाक कोई नया खेल, खेल सकता है।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story