×

Kushinagar News: हजारों वर्ष की गुलामी के बाद भी वीर शहीदों की बदौलत ही देश की संस्कृति और परम्परा पर कोई आंच नहीं आईः सांसद विजय दूबे

Kushinagar News: कुशीनगर के रामकोला त्रिवेणी चीनी मिल परिसर स्थित गुरुद्वारे में वीर बाल दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया । सिख गुरु गोविंद सिंह जी के 4 साहिबजादों के साहस व वलिदान को याद किया।

Mohan Suryavanshi
Published on: 26 Dec 2023 2:32 PM GMT
MP Vijay Dubey said, even after thousands of years of slavery, it was only because of the brave martyrs that the culture and tradition of the country was not affected
X

कुशीनगर के रामकोला त्रिवेणी चीनी मिल परिसर स्थित गुरुद्वारे में वीर बाल दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया: Photo- Newstrack

Kushinagar News: ‌जनपद के रामकोला नगर स्थित त्रिवेणी चीनी मिल के परिसर में स्थित गुरूद्वारे में मंगलवार को सिख गुरु गोविंद सिंह जी के 4 साहिबजादों के साहस व वलिदान को श्रद्धांजलि देते हुए शहीद वीर बाल दिवस मनाया गया। इस अवसर पर उनके बलिदान को याद करते हुए शबद गाए गए। इस मौके पर साहिबजादों की वीरता और उनकी माता गूजरी के असाधारण साहस व बलिदान की दास्‍तां की कहानी उपस्थित लोगों को चलचित्र के जरिये लोगों को दिखाई व सुनाई गई।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए बीजेपी सांसद विजय कुमार दूबे ने कहा कि हजारों वर्ष की गुलामी के बाद भी वीर शहीदों के बदौलत ही देश की संस्कृति और परम्परा पर कोई आंच नहीं आई। इसके लिए सिख गुरु, गुरु गोविंद सिंह जी के नाबालिग चारों पुत्रों ने मुगलों के सामने अपना सिर नहीं झुकाया।

विश्व गुरु बनेगा भारत

ऐसे परिवार के प्रति उनके सम्मान में देशवासियों का हमेशा सिर झुकता रहेगा। उन्होंने कहा कि देश के महापुरुषों के संस्कार का अनुसरण, 2047 में दुनिया के पटल पर भारत विश्व गुरु के रूप में आपको दिखाई देगा। भाजपा जिलाध्यक्ष दुर्गेश राय ने कहा कि 26 दिसम्बर 1704 को श्री गुरु गोविंद सिंह के साहिबजादा जोरावर सिंह 9 वर्ष तथा फतेह सिंह 7 वर्ष को मुगल शासक औरंगजेब ने दीवारों में ईटें लगाकर जिंदा चिनवा दिया और दो साहिबजादों अजीत सिंह और जुझार सिंह युद्ध में शहीद हो गये।


सिखों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी

इसी वर्ष से भारत सरकार ने 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस मनाने का निर्णय लिया था। मण्डल अध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ने कहा कि धर्म की रक्षा के लिए साहिबजादों ने शीश नहीं झुकाया और अपनी खुद की जान तक कुर्बान कर दी। सिखों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी के साहिबजादों के याद में यह आयोजन किया गया है।

इस दौरान विधायक विनय प्रकाश गोंड, ज्ञानी संजय सिंह, चीनी मिल के प्रधान प्रबंधक यश राज सिंह, कारखाना प्रबंधक मानवेन्द्र राय, महा प्रबंधक गन्ना सतीश बालियान, हरि राय, बैकुण्ठ शाही, दरोगा कुवंर सिंह, सत्यपाल गोविन्द राव, अरूण सिंह, सरदार यशपाल सिंह, जगदीश चावला, आनंद मिश्रा, ऋतिक सिंह गौतम, मनोज गोविंद राव, सभासद संजय सिंह, सभासद प्रतिनिधि पंकज सैनी, राजेश कुमार शर्मा, चेतन शर्मा, सुनील चड्ढा, कुमुद चड्ढा, शशि नंदा, नीतू, मधु, रानी नंदा, कमलेश शर्मा, मंजू चावला, निखिल उपाध्याय, दिनेश चन्द, भूपेंद्र सिंह, सभासद आलोक गुप्ता, उमेश तिवारी, अमरजीत गोविन्द राव ,सूरज सिंह आदि उपस्थित रहे।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story