×

Lakhimpur Kheri: घाघरा नदी का ताडंव जारी, कई जगह पर हुआ कटान, कई घर नदी में समाए

Lakhimpur Kheri: घाघरा नदी के तेज बहाव के कारण विकास खण्ड ईसानगर के ग्राम पंचायत मिर्जापुर में बीते 15 दिनों में लगभग एक दर्जन आशियाने नदी में समा चुके है व आधा गाँव कटान की जद में है।

Himanshu Srivastava
Updated on: 5 Aug 2022 2:14 PM GMT
Lakhimpur Kheri News
X

घाघरा नदी के तेज बहाव से कई स्थानों पर कटाव

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lakhimpur Kheri: बरसात के मौसम मे प्रतिवर्ष क्षेत्र को अपने आगोश मे समाहित करने को बेताब रहनेवाली शारदा व घाघरा नदिया लबालब अपने शबाब पर चल रही है और सिंचाई विभाग (irrigation department) व बाढ़ खण्ड के अधिकारी बराबर निरीक्षण कर बचाव करने का असफल प्रयास कर रहे है।

बीते 15 दिनों में एक दर्जन आशियाने नदी में समाए

शारदा नदी (Sharda River) के किनारे बसे गाँव इस बार कटान की जद से दूर है, लेकिन फिर भी खतरा टला नहीं है। ठीक इसके उलट विकास खण्ड ईसानगर (Development Block Isanagar) के ग्राम पंचायत मिर्जापुर में बीते 15 दिनों में लगभग एक दर्जन आशियाने नदी मे समा चुके है। व आधा गाँव कटान की जद में है।

ग्राम पंचायत के ही मजरा गनापुर, भदईपुरवा, हटवा व साहबदीनपुरवा में रास्तों पर जलभराव के कारण आवागमन में भारी दिक्कत होती हैं। प्रशाशनिक मशीनरी के निर्देश पर बाढ़ खण्ड के प्रयासों से लोगों के आवास व कृषि भूमि कटान से बचाने का प्रयास किया गया लेकिन मिर्जापुरवा में घाघरा का अभी भी ताडंव जारी है।


मिर्जापुरवा में गाँव को बचाने का असफल प्रयास बाढ खण्ड के जे ई हरीष वर्मा (Barh Division J E Harish Verma) द्वारा लगातार जारी है। वहीं, गांव से उतर कृषि योग्य जमीने नदी के आगोश मे समा रही है।ग्रामीण बांके, अरविन्द, सकीमा, सलीम, निजामू आदि ने बाढ खण्ड के द्वारा कराये जा रहे बचावकार्य से नाराज है।

कृषि योग्य भूमि को निगल रही घाघरा नदी

ग्रामीणों के अनुसार गांव के उत्तर तरफ कृषि योग्य भूमि को निगल रही घाघरा नदी के निशाने पर आधे गांव के मकानों के साथ-साथ पंचायत घर व ग्रामीणों के लिए बनी शुद्ध पेयजल के लिए पानी की टंकी घाघरा के निशाने पर है। ग्रामीणों के अनुसार सिचाई विभाग अगर कृषि योग्य जमीनों के पास कटान रोधक प्रणाली का अनुसरण करे तो मकानों के साथ-साथ टंकी व पंचायत घर बच सकता है।

शारदा नदी से पानी किया रिलीफ: अधिकारी

बाढ खण्ड के अधिकारी राजीव कुमार (Barh division officer Rajeev Kumar) ने बताया कि शारदा नदी मे शारदा बैराज से 135.30 गेज व गिरिजापुरी बैराज से घाघरा नदी मे 135.60 गेज पानी रिलीफ किया गया है।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story