×

Lakhimpur Kheri News: राज्यपाल अनन्दीबेन पटेल ने की अफसरों के साथ बैठक, कल रहेंगी थारु जनजाति के बीच

Lakhimpur Kheri News: राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कलेक्ट्रेट सभागार पहुंचकर अधिकारियों के साथ मीटिंग की। इसके बाद शहर से सटे पंडित दीनदयाल उपाध्याय विद्यालय में कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रहीं।

Himanshu Srivastava
Published on: 20 Nov 2022 12:38 PM GMT
X

राज्यपाल अनन्दीबेन पटेल

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lakhimpur Kheri News: राज्यपाल अनन्दीबेन पटेल आज लखीमपुर खीरी पहुँचीं, राज्यपाल सबसे पहले कलेक्ट्रेट सभागार गईं और जिला स्तरीय अधिकारियों के संग बैठक की। इसके बाद उदयपुर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज पहुँचीं, इंटर कॉलेज में आयोजित संयुक्त मेधा अलंकरण एवं वार्षिकोत्सव में भाग लिया, कॉलेज के टॉप टेन मेधावी छात्रों को गोल्ड मेडल, 9th के छात्रों को सिल्वर मैडल पहना कर सम्मानित किया। कल राज्यपाल अनन्दी बेन पटेल दुधवा इलाके में थारू जनजाति इलाकों में दौरा करेंगी और उसके बाद जनपद पीलीभीत के लिए रवाना होंगी।

आपको बताते चलें आज लखीमपुर खीरी यूपी के राज्यपाल आनंदीबेन पटेल लखीमपुर का दो दिन का भ्रमण कार्यक्रम लगा हुआ था, जिसको देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किए गए थे। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का उड़न खटोला आज लखीमपुर खीरी पुलिस लाइन ग्राउंड में बने हेलीपैड पर उतरा। वहीं से आनंदीबेन पटेल ने कलेक्ट्रेट सभागार पहुंचकर अधिकारियों के साथ मीटिंग की। इसके बाद शहर से सटे पंडित दीनदयाल उपाध्याय विद्यालय में कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रहीं। यहां टॉप टेन मेधावी छात्रों को गोल्ड मेडल व 9th के छात्रों को सिल्वर मैडल पहना कर सम्मानित किया। उसके बाद दुधवा क्षेत्र के लिए रवाना हो गईं। दुधवा में थारू जनजाति इलाकों का दौरा करने के बाद वह पीलीभीत के लिए रवाना हो जाएंगी।

राज्यपाल का मानना है थारू जनजाति का इतिहास बहुत ही गौरवपूर्ण है और सरकार थारू युवाओं का कौशल विकास कर उन्हें रोजगार से जोड़ रही है। वनों और जंगलों के आस-पास रहने के कारण थारू जनजाति के लोगों को शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य बुनियादी सुविधाओं से वंचित रहना पड़ा है, जिससे इनका सामाजिक जीवन अन्य लोगों से बहुत पिछड़ा हुआ था। अब इनका जीवन स्तर सुधर रहा है।

Jugul Kishor

Jugul Kishor

Next Story