Top

VIDEO: अभ्यर्थी मांग रहे थे हक, मिली लाठियां, गोमती में कूद बचाई जान

Admin

AdminBy Admin

Published on 9 April 2016 1:25 PM GMT

VIDEO: अभ्यर्थी मांग रहे थे हक, मिली लाठियां, गोमती में कूद बचाई जान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: राजधानी का लक्ष्मण मेला मैदान शनिवार को रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। पिछले एक सप्ताह से यूपी के विभिन्न जिलों से आए महिला/पुरुष अभ्यर्थी नियुक्ति पत्र की मांग को लेकर धरने पर बैठे थे। इसी बीच अभ्यर्थियों पर लाठी चार्ज कर दिया गया। इस घटना में पचासों अभ्यर्थी घायल हो गए। गौरतलब है कि इन अभ्यर्थियों का चयन पुलिस भर्ती 2013 की परीक्षा में हो चुका है।

अभ्यर्थियों की क्या है मांग?

-एक सप्ताह से धरना दे रहे थे पुलिस भर्ती 2013 में चयनित अभ्यर्थी।

-16747 पदों पर हुई थी भर्ती।

-इन्हें अभी तक प्रशिक्षण पर नहीं भेजा गया है।

-ये न्युक्ति पत्र की मांग कर रहे हैं।

-सरकार की तरफ से कोई सुनवाई न होने पर आठ सदस्यों की टीम को पुलिस सपा कार्यालय ले गई।

-वहां उनकी किसी मंत्री से मुलाकात नहीं कराई गई।

  पुलिस के डर से टीले पर चढ़े अभ्यर्थी
पुलिस के डर से टीले पर चढ़े अभ्यर्थी

'वर्दी दो या मौत दो' के लगे नारे

-गुस्साए अभ्यर्थी 'वर्दी दो या मौत दो' के नारे लगाने लगे।

-अभ्यर्थियों का आरोप है कि पुलिस धरने का नेतृत्व कर रहे रोहित कुमार को बात करने के बहाने बुलाया और उन्हें हिरासत में ले लिया।

-उसके बाद पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया।

महिलाओं को भी पीटा

-पुलिस ने महिलाओं को भी दौड़ा-दौड़कर पीटा।

-इसमें दर्जनों जख्मी हो गए।

-पुलिस ने कई अभ्यर्थियों को गिरफ्तार किया है।

police-2

गोमती में कूदे अभ्यर्थी

-इसके विरोध में सैकड़ों अभ्यर्थी गोमती नदी के किनारे बालू के टीले पर चढ़ गए और गोमती नदी में छलांग लगा दी।

-गोमती में आठ अभ्यर्थी कूद गए लेकिन पुलिस खड़ी तमाशा देखती रही।

-गोमती नदी में अलीगढ़ के प्रदीप कुमार, कानपुर के रवि कुमार, गोरखपुर के कालीचरण, अनिल चौहान, बलिया के मुरलीधर यादव, मुरादाबाद के राहुल, राकेश कुमार और फिरोजाबाद के डालचंद्र ने छलांग लगाई।

तीन दिन से बैठे थे भूख हड़ताल पर

-ज्ञात हो कि करीब चार दिनों तक धरना देने के बाद प्रदर्शनकारियों को जब उम्मीद की किरण नहीं दिखी तो उन्होंने गुरुवार से भूख हड़ताल शुरू कर दी।

-भूख हड़ताल के दौरान शुक्रवार को करीब आठ अभ्यार्थियों की हालत बिगड़ गई।

-इसके चलते उन्हें सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

मिला था आश्वासन

पुलिस महानिरीक्षक स्थापना वितुल कुमार ने आश्वासन दिया था कि इन लोगों को 5 अप्रैल 2016 तक प्रशिक्षण पर भेज दिया जाएगा। लेकिन उनका आश्वासन खोखला निकला। इसी के विरोध में सैकड़ों अभ्यर्थी धरने पर बैठे थे। धरने पर बैठे अभ्यर्थियों का आरोप है पुलिस उन्हें रोज धमकी दे रही थी। शनिवार को लाठीचार्ज कर दिया। सैकड़ों चयनित अभ्यर्थियों ने कहा, वह अब आर-पार की लड़ाई के लिए तैयार हैं।

Admin

Admin

Next Story