एनेक्सी पर बवालः हादसे से गुस्साई भीड़, सरकारी गाड़ियों में तोड़ फोड़ जारी

राजधानी लखनऊ के वीवीआईपी इलाके में मुख्यमंत्री सचिवालय के पास स्थित योजना भवन के सामने गुस्साई भीड़ ने सरकारी गाड़ी पर हमला बोल दिया गया। 

Published by Shreya Published: October 24, 2020 | 1:33 pm
Modified: October 24, 2020 | 1:47 pm
lucknow aacident

योजना भवन के सामने बवालः गुस्साई भीड़ के निशाने पर सरकारी गाड़ियां (फोटो- सोशल मीडिया)

लखनऊ: राजधानी लखनऊ के वीवीआईपी इलाके में मुख्यमंत्री सचिवालय के पास स्थित योजना भवन के सामने गुस्साई भीड़ ने सरकारी गाड़ी पर हमला बोल दिया है। लोगों ने गाड़ी के ड्राइवर के साथ हाथा -पाई की और गाड़ी को भी काफी क्षतिग्रस्त कर दिया है। योजना भवन भी सरकारी सचिवालय का हिस्सा माना जाता है। योजना भवन के आस-पास पुरानी बस्ती है। बताया जाता है कि भारत सरकार का स्टिकर लगी एक गाड़ी के ड्राइवर ने तेज रफ्तार में अनियंत्रित होकर कई लोगों को गंभीर रूप से घायल कर दिया है।

अन्य वाहनों को भी पहुंचाया गया नुकसान

वहीं आस-पास से गुजर रहे वाहनों व सडक़ के किनारे खड़ी गाडिय़ों को भी नुकसान पहुंचाया है। हादसे के बाद एकत्रित भीड़ ने लापरवाही से गाड़ी चला रहे ड्राइवर को पकड़ लिया है। भीड़ में आक्रोशित कई लोगों ने गाड़ी में तोड़-फोड़ भी कर डाली। ईंट-पत्थर फेंक कर सरकारी गाड़ी की विंड स्क्रीन को पूरी तरह नष्ट कर दिया है। हंगामा बढऩे पर कुछ लोगों ने पुलिस को सूचना दी जिसके बाद हसनगंज थाना पुलिस के दारोगा और सिपाही भी मौके पर पहुंच गए हैं।

यह भी पढ़ें: रावण हुआ कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में कराया भर्ती! कार्यक्रम रद्द, देखें पूरा वीडियो

Lucknow Accident
(फोटो- सोशल मीडिया)

पकड़ा गया सरकारी वाहन का ड्राइवर

एक्सीडेंट करने वाले सरकारी वाहन के ड्राइवर को पकड़ लिया गया है। पुलिस ने कहा कि आरोपित का मेडिकल चेेकअप कराया जा रहा है। गाड़ी तेज रफ्तार होने की वजह से हादसा हुआ या कोई अन्य वजह है इसकी पड़ताल की जा रही है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार गाड़ी अत्यंत तेज गति से सडक़ पर दौड़ रही थी। ड्राइवर ने ब्रेक लगाने की कोशिश नहीं की है लेकिन यह सब जांच का हिस्सा है। ड्राइवर को भी चोटें आई हैं।

दूसरी ओर स्थानीय निवासियों ने आरोप लगाया कि इस इलाके में सरकार के सचिवालय समेत अन्य कार्यालय होने की वजह से सरकारी वाहनों का आना-जाना बना रहता है। सरकारी वाहनों को चलाने वाले ज्यादातर ड्राइवर टैक्सी कंपनियों से बुलाए जाते हैं जिनका अनुभव अच्छा नहीं है। सरकारी वाहन होने की वजह से वह गैरजिम्मेदारी से गाड़ी चलाते हैं।

यह भी पढ़ें: माफियाओं की खैर नहींः मुख्तार के करीबी शम्मे हुसैन हॉस्पिटल पर चला बुलडोजर

बड़े अधिकारियों का हाथ होने की वजह से अक्सर पुलिस उन पर कार्रवाई करने से कतरा जाती है। यहां अक्सर हादसे होते रहते हैं लेकिन पुलिस की ओर से कोई कदम नहीं उठाया जाता है। इस हादसे के बाद लोगों ने वाहन में जो भी तोड़-फोड़ की है उसकी वजह पुलिस का यही रवैया है। लोगों को मालूम है कि सरकारी वाहन चलाने की वजह से ड्राइवर के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी। यही वजह है कि लोगों ने खुद फैसला किया है।

देखें वीडियो-

अखिलेश तिवारी

यह भी पढ़ें: PM मोदी ने गुजरात को दिए तीन बड़े तोहफे, पढ़ें भाषण की अहम बातें…

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App