×

Lucknow News:पुस्तक प्रेमियों का ठिकाना बना बुक फेयर, नामचीन साहित्यकारों की पुस्तकों की हो रहीं मांग

Lucknow News: इन पुस्तकों को अपनी बुक शेल्फ का हिस्सा बनाने के लिए लोग इनकी जमकर खरीदारी भी कर रहें हैं

Jyotsna Singh
Updated on: 26 Sep 2022 10:24 AM GMT
Lucknow News  book lovers became a place Book fair famous litterateurs book demand
X

Lucknow News book lovers became a place Book fair famous litterateurs book demand

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lucknow News: लखनऊ की नियति से जुड़े यशपाल, अमृतलाल नागर और भगवतीचरण वर्मा, गौरा पंत शिवानी, श्रीलाल शुक्ल, मुद्राराक्षस आदि कालजयी लेखकों के बारे में जिनके स्वतंत्र विचार, शक्तिशाली साहित्यिक सृजन ने शहर को हिंदी साहित्य के अंतरिक्ष में एक असाधारण स्थान प्रदान किया वहीं नई सदी के साहित्यकारों ने युवा मन को छूते हुए विषयों पर आधारित पुस्तकों को रच कर नई पीढ़ी को हिंदी साहित्य से जोड़ने की एक महती जिम्मेदारी निभाई है।

बलरामपुर गार्डन अशोक मार्ग में चल रहे 10 दिवसीय उन्नीसवें पुस्तक मेले में नामचीन साहित्यकारों की पुस्तकों से सुशोभित साहित्यिक गलियारा आज कल पुस्तक प्रेमियों को खूब लुभा रहा है। यहां के साहित्यिक आयोजन बौद्धिक वर्ग का ठिकाना बने हुए हैं तो कविता, कहानी, उपन्यास के संग विषय विशेष और आम विषय की पुस्तकें नवाबी शहर के साहित्य प्रेमियों द्वारा खूब पसंद की जा रहीं है साथ ही इन पुस्तकों को अपनी बुक शेल्फ का हिस्सा बनाने के लिए लोग इनकी जमकर खरीदारी भी कर रहें हैं।पुस्तक मेले के चौथे दिन सुबह से ही आगंतुकों से हर घर पुस्तकालय थीम पर आधारित इस मेले में रौनक बढ़ती जा रही है। मेलें में हर पुस्तक पर कम से कम 10 प्रतिशत छूट दी जा रही है। मेला पुस्तक प्रेमियों के लिए गांधी जयंती तक प्रतिदिन प्रातः 11 से रात नौ बजे तक खुला रहेगा।


बताते चलें कि सेतु प्रकाशन के स्टाल पर ओमप्रकाश कश्यप की पेरियार पर लिखी पुस्तक की बहुत मांग है। यहां इस वर्ष प्रकाशित हुई पुस्तकों में उपन्यास और देस, विवाद नहीं हस्तक्षेप, अंधेरी रात के तारे, विलोपन, मूर्तियों के जंगल में, दूरियों के घेरे में, पल्लीपार, बस्तियों का कांरवां और आहत नाद जैसी पुस्तकें हैं। प्रभात के स्टाल पर इसी साल आई महाराणा, वीर सावरकर, सुपरकॉप अजीत डोभाल, डायनमिक डीएम, भारत 2047, आजादी 75 जैसी किताबें पसंद की जा रही हैं। राजकमल के स्टाल पर पुरस्कृत साहित्य कें संग ही महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों के लिए संदर्भ ग्रंथों की किताबें बड़ी संख्या मं उपलब्ध हैं।

साहित्यिक मंच साहित्यकारों की पुस्तक चर्चा परिचर्चा के साथ ही

मेले में बच्चों के लिए डांस, पेण्टिंग, कार्टून मेकिंग, निबंध लेखन, गायन आदि की विभिन्न प्रतियोगिताओं का आनलाइन आयोजन हो रहा है। मेले के सहयोगी रेडियोसिटी, ओरिजिंस, किरण फाउंडेशन, ज्वाइन हैंड्स फाउंडेशन, ऑप्टीकुंभ, रेट्रोबी, सिटी एसेंस और ट्रेड मित्र पत्रिका हैं।

26 सितम्बर के कार्यक्रम यानी आज

  • सुबह 11 बजे निखिल प्रकाशन की ओर से पुस्तक लोकार्पण
  • दोपहर 3 बजे प्रज्ञा साहित्य परिषद के संयोजन मे काव्यगोष्ठी
  • शाम 6 बजे स्टीफेन की जीवनी पर बातचीत कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।
Anant kumar shukla

Anant kumar shukla

Next Story