×

Chhath Puja 2022 Ended: लखनऊ में उगते सूर्य को अर्घ्य देकर चार दिवसीय छठ महापर्व का हुआ समापन

Chhath Puja 2022 Ended: राजधानी लखनऊ के गोमती नगर एक्सटेंशन में गोमती तट के किनारे लोगों ने उगते सूर्य को अर्घ्य देकर लोक आस्था के इस महान पर्व छठ का समापन किया। गोमती किनारे आज सुबह 4 बजे से ही व्रतियों का आना शुरू हो गया था।

Preeti Mishra
Published on: 31 Oct 2022 2:28 AM GMT
Chhath Puja 2022 Ended
X

Chhath Puja 2022 Ended (Image: Newstrack)

Chhath Puja 2022: 28 अक्टूबर को नहाय-खाय के साथ शुरू हुआ आस्था का महापर्व छठ आज चौथे दिन उगते सूर्य देव को अर्घ्य देने के साथ समाप्त हो गया। छठ व्रत के चौथे दिन उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद इस व्रत को तोड़ने का विधान है। चार दिनों तक चलने वाले इस कठिन तप और उपवास के माध्यम से प्रत्येक साधक अपने परिवार और विशेषकर अपने बच्चों के अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता है। बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड सहित देश के सभी हिस्सों में मनाया जाने वाला छठ पर्व छठ मैया और दृश्य देवता भगवान भास्कर की विशेष पूजा के लिए किया जाता है।


गोमती नगर एक्सटेंशन में गोमती किनारे दिया गया अर्घ्य

राजधानी लखनऊ के गोमती नगर एक्सटेंशन में गोमती तट के किनारे लोगों ने उगते सूर्य को अर्घ्य देकर लोक आस्था के इस महान पर्व छठ का समापन किया। गोमती किनारे आज सुबह 4 बजे से ही व्रतियों का आना शुरू हो गया था। भगवान को अर्घ्य देने के लिए घाट पर भक्तों और व्रतियों की भारी भीड़ जमा थी। गोमती नगर एक्सटेंशन में प्रशासन की तरफ से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। यहाँ पर मिथिला समाज सेवा समिति द्वारा अन्य व्यवस्थाएं की गयी थीं। घाट को अच्छी तरह से साफ़ किया गया था और रंगीन बल्बों के साथ घात को सजाया गया था।


छठ पूजा का धार्मिक महत्व

सभी पुराणों में भगवान भास्कर की महिमा का वर्णन किया गया है। भगवान सूर्य एक ऐसे देवता हैं, जिनकी साधना भगवान राम और भगवान कृष्ण के पुत्र सांबा ने की थी। सनातन परंपरा से जुड़े धार्मिक ग्रंथों में उगते हुए सूर्य देव की पूजा को बहुत ही शुभ और शीघ्र फलदायी बताया गया है, लेकिन छठ महापर्व पर की गई सूर्य देव की पूजा और अर्घ्य को विशेष महत्व दिया गया है. ऐसी मान्यता है कि छठ व्रत की पूजा करने से साधक के जीवन से जुड़ी सभी परेशानियां पलक झपकते ही दूर हो जाती हैं और उसे मनचाहा वरदान मिलता है।


छठ पूजा का आध्यात्मिक महत्व

भले ही दुनिया कहती है कि जो उठ गया, उसका डूबना तय है, लेकिन लोक आस्था के छठ पर्व में पहले उगते सूरज को पहले और फिर दूसरे दिन अर्घ्य देने का संदेश है कि जो डूब गया है। बढ़ना तय है। इसलिए विपत्ति से डरने की बजाय धैर्य से अपना काम करें और अपने अच्छे दिनों के आने की प्रतीक्षा करें, निश्चित रूप से भगवान भास्कर की कृपा से आपको सुख, समृद्धि और सौभाग्य का वरदान प्राप्त होगा।


हिंदू धर्म में षष्ठी का व्रत साल में दो बार मनाया जाता है। इसमें से एक चैत्र शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है, जिसे लोक परंपरा में चैती छठ के नाम से जाना जाता है, जबकि कार्तिक शुक्ल पक्ष को मनाई जाने वाली षष्ठी तिथि को छठ महापर्व या कार्तिकी छठ कहा जाता है।


हिंदू धर्म में, छठ व्रत को सभी देवी-देवताओं के लिए मनाए जाने वाले कठिन व्रतों में से एक माना जाता है। जिसमें महिलाएं अपने परिवार की सुख-समृद्धि के लिए 36 घंटे तक व्रत रखती हैं। सर्दी के मौसम में बिना कुछ खाए ठंडे पानी में खड़े रहना और घंटों सूर्य साधना करना किसी तपस्या से कम नहीं है।


छठ महापर्व पर पूजे जाने वाले भगवान सूर्य और छठी मैया का संबंध भाई-बहन का है। धार्मिक मान्यता के अनुसार प्रकृति के छठे भाग से प्रकट होने के कारण माता को छठी मैया के नाम से जाना जाता है। छठी मैया को देवताओं की देवसेना भी कहा जाता है। मान्यता है कि छठी मैया की पूजा करने से साधक को संतान सुख की प्राप्ति होती है.

Preeti Mishra

Preeti Mishra

Content Writer (Health and Tourism)

प्रीति मिश्रा, मीडिया इंडस्ट्री में 10 साल से ज्यादा का अनुभव है। डिजिटल के साथ-साथ प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में भी काम करने का तजुर्बा है। हेल्थ, लाइफस्टाइल, और टूरिज्म के साथ-साथ बिज़नेस पर भी कई वर्षों तक लिखा है। मेरा सफ़र दूरदर्शन से शुरू होकर DLA और हिंदुस्तान होते हुए न्यूजट्रैक तक पंहुचा है। मैं न्यूज़ट्रैक में ट्रेवल और टूरिज्म सेक्शन के साथ हेल्थ सेक्शन को लीड कर रही हैं।

Next Story