Top

सौर ऊर्जा से जगमगाने वाला पहला कलेक्ट्रेट लखनऊ का, अब KGMU का नंबर

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 Aug 2016 7:28 PM GMT

सौर ऊर्जा से जगमगाने वाला पहला कलेक्ट्रेट लखनऊ का, अब KGMU का नंबर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः राजधानी का कलेक्ट्रेट सूबे का पहला ऐसा कलेक्ट्रेट बन गया है, जो पूरी तरह सौर ऊर्जा से जगमगाएगा। इससे हर साल लाखों रुपए की बचत होगी। साथ ही बची हुई बिजली ग्रिड को बेची भी जाएगी। इसके बाद अब किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) भी सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करने वाला है। यहां जल्दी ही ये योजना परवान चढ़ने वाली है। यहां 400 किलोवाट का सोलर प्लांट लगाया जा रहा है।

बचेगा पैसा, बिजली बेची भी जाएगी

-लखनऊ के डीएम राजशेखर ने बताया कि सौर ऊर्जा से हर साल करीब 14 लाख रुपए की बचत होगी।

-135 किलोवाट वाले सोलर प्लांट से हर रोज 525 यूनिट बिजली बनेगी।

-यहां हर महीने बनने वाली 15 हजार 750 यूनिट में से बची बिजली ग्रिड में दी जाएगी।

-ग्रिड में दी गई बिजली कलेक्ट्रेट के बिजली बिल में क्रेडिट हो जाएगी।

मंत्री ने क्या कहा?

-कलेक्ट्रेट सोलर प्लांट का उद्घाटन प्रभारी मंत्री शिव प्रताप यादव ने किया।

-उन्होंने कहा कि सौर ऊर्जा के बिना विकास संभव नहीं है।

-यूपी में बीते 4 साल में सौर ऊर्जा का उत्पादन 12 मेगावाट से बढ़कर 90 मेगावाट हो गया है।

-जल्दी ही यूपी में सौर ऊर्जा का उत्पादन बढ़कर 180 मेगावाट हो जाएगा।

फोटोः प्रभारी मंत्री को सोलर प्लांट की जानकारी देते अतिरिक्त ऊर्जा विभाग के सचिव पार्थ सारथी सेन शर्मा

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story