×

OPEN MIC SEASON 6: लखनऊवाइट्स की कॉमेडी ने सबको गुदगुदाया, ‘करणी सेना’ की नाकामी पर बजी तालियां

शीरोज हैंगआउट में रविवार की शाम कुछ अलग थी, अलग अलग अनुभवो के साथ माइक पर सबको गुदगुदाने आए लखनऊवाइट्स की परफार्मेंस पर जमकर तालियां बजीं। मौका था शीरोज हैंगआउट कैफे में टीम हवाबाजी की ओर से आयोजित 'ओपेन माइक सीजन 6' का। इस मौके पर हाल ही में रिलीज हुई पद्मावत मूवी और करनी सेना की नाकामी के जिक्र पर दर्शकों ने जमकर तालियां बजाईं।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 28 Jan 2018 1:05 PM GMT

OPEN MIC SEASON 6: लखनऊवाइट्स की कॉमेडी ने सबको गुदगुदाया, ‘करणी सेना’ की नाकामी पर बजी तालियां
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: शीरोज हैंगआउट में रविवार (28 जनवरी की शाम कुछ अलग थी, अलग अलग अनुभवों के साथ माइक पर सबको गुदगुदाने आए लखनऊवाइट्स की परफार्मेंस पर जमकर तालियां बजीं।

मौका था शीरोज हैंगआउट कैफे में टीम हवाबाजी की ओर से आयोजित 'ओपेन माइक सीजन 6' का। इस मौके पर हाल ही में रिलीज हुई पद्मावत मूवी और करणी सेना की नाकामी के जिक्र पर दर्शकों ने जमकर तालियां बजाईं।

अलबेले कपल्‍स के इश्‍क पर लगे ठहाके

शहर के कॉलेजों से लेकर पार्कों में एक दूसरे के हाथ में हाथ डाले बैठे अलबेले और बेमेल कपल्‍स के अनोखे डिस्‍क्रप्‍शन पर श्रोताओं ने जमकर ठहाके लगाए। इसके साथ ही साथ प्रसून ने फिल्म पद्मावत पर एक मज़ेदार किस्सा सुनाया। वहीं लोगों को अदीबा की कविता ने आपसी मतभेद को भुलाने के लिए प्रेरित किया। दिविता ने अपनी कविता से लोगों को हंसाया तो इस बार अभिजीत और एश्वर्या ने मेडले प्रस्तुत किया।

आशुतोष के अधूरे इश्‍क पर बजी तालियां

newstrack.com के फोटोजर्नलिस्‍ट आशुतोष त्रिपाठी ने ओपेन माइक सीजन-6 में जैसे ही अधूरे इश्‍क को लेकर एक शेर सुनाया, कैफे तालियों की गड़गड़हाट से गूंज उठा। हवाबाजी टीम के नदीम ने बताया कि लखनऊ ओपन माइक-6 हमेशा से ही अपने अनूठे अंदाज़ के लिए जाना जाता है और इसने शहर को बहुत से कलाकार दिए हैं। साथ ही बहुत से लोगों को एक ऐसा मंच प्रदान किया है जहां वे खुलकर बिना किसी हिचक के अपनी बात सबके सामने बोल सकते हैं। यह इस साल का पहला कार्यक्रम था और निश्चित तौर पर ही इसने सभी के दिलों को छू लिया। शहर मे ओपन माइक का चलन लाने वाली टीम हवाबाज़ी आज भी न तो अपने प्रतिभागियों से और न ही दर्शकों से किसी भी तरह का शुल्क लेती है जो कि अपने आप मे एक सराहनीय बात है। हर बार इसे लोगों ने सराहा है और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया है। इस शहर को बहुत से नायाब कलाकारों से रूबरू कराने मे लखनऊ ओपन माइक का योगदान सराहनीय है।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story