×

CBSE Results: सेल्फ स्टडी और लगातार पढ़ाई बनी सफलता का मापदंड, बहनों ने दसवीं व बारहवीं परीक्षा में लहराया परचम

CBSE Results: एलपीएस साउथ सिटी में पढ़ने वाली मलिश्का अरोड़ा ने हाई स्कूल में 97.4 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। मलिश्का ने बताया कि 12वीं के लिए कॉमर्स का चयन किया है। ‌

Abhishek Mishra
Published on: 13 May 2024 2:44 PM GMT
Self study and continuous studies became the criteria of success, sisters hoisted the flag in 10th and 12th examination.
X

मलिश्का अरोड़ा-मल्लिका अरोड़ा बहनों ने दसवीं व बारहवीं परीक्षा में लहराया परचम: Photo- Newstrack

CBSE Results: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (CBSE) ने सोमवार को दसवीं व बारहवीं के परीक्षा परिणाम जारी कर दिए हैं। इसमें उत्तर प्रदेश से दसवीं में 92.72 और बारहवीं में 78.25 फीसदी विद्यार्थी पास हुए। जबकि लखनऊ से क्रमशः 95.52 और 83.57 प्रतिशत छात्र छात्राओं ने परीक्षा उत्तीर्ण की। इसके मद्देनजर 'न्यूज़ट्रैक' ने शहर के मेधावियों के साथ बातचीत की। उनके भविष्य, पढ़ाई और कुछ अन्य बिंदुओं पर उनके मत जाने। पेश हैं बातचीत के कुछ अंश...लखनऊ पब्लिक स्कूल के साउथ सिटी शाखा में पढ़ने वाली दो बहनों ने परीक्षा में टॉप किया है।

बचपन से ही क्रिएटिव हैं मलिश्का

एलपीएस साउथ सिटी में पढ़ने वाली मलिश्का अरोड़ा ने हाई स्कूल में 97.4 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। मलिश्का ने बताया कि 12वीं के लिए कॉमर्स का चयन किया है। ‌बचपन से ही क्रिएटिव रही हूं इसलिए इवेंट मैनेजर बनना है। इसमें भविष्य भी ब्राइट है। मेरा पूरा फोकस इसी बात पर रहता था कि स्कूल में जो पढ़ाया जाए, उसका रोज का रोज रिवीजन कर लूं। शहर में लोगों का ट्रैफिक सेंस बहुत खराब है। उन्होंने बताया कि पढ़ाई में बड़ी बहन मल्लिका ने बहुत गाइड किया। माता-पिता ने अच्छा वातावरण दिया। शिक्षकों ने भी साथ दिया। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के बारे में बहुत पढ़ा है। उनके साक्षात्कारों को सुनकर मनोबल बढ़ता है।

आईएएस बनना चाहती हैं मल्लिका

मलिश्का की बड़ी बहन मल्लिका अरोड़ा ने बारहवीं में टॉप किया है। वह भी एलपीएस साउथ सिटी में पढ़ रही हैं। उन्हें 97.2 फीसदी अंक मिले हैं। मल्लिका ने बताया कि सीयूईटी का फॉर्म भरा है। सिविल सर्विसेज की तैयारी करूंगी। आईएएस बनना चाहती हूं। टीचर्स बहुत अच्छे थे वह जो पढ़ाते थे एक ही बार में समझ आ जाता था। रोजाना होमवर्क करती थी। लगातार पढ़ाई करने से सफलता मिली है। सोशल मीडिया पर मेरा अकाउंट नहीं है। इसे सिर्फ जानकारी प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि यदि मैं आईएएस बन जाती हूं तो ग्रामीण विकास पर मुख्य रूप से ध्यान दूंगी। गांव के विकसित होने से राज्य और देश भी प्रगति करेगा। बारहवीं फेल मूवी मेरे लिए प्रेरणास्त्रोत है। लोगों से यह कहना चाहूंगी कि लगातार मेहनत करते रहना चाहिए। जो करें पूरी शिद्दत के साथ करें, सफलता जरूर हासिल होगी।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story