×

Lucknow News: योगी सरकार ने मुख्तार अंसारी को दिया एक और झटका, माफिया के कब्जे वाली जमीन पर अब बनेगा गरीबों का आशियाना

Lucknow News: बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी के आर्थिक साम्राज्य के खिलाफ ताबड़तोड़ एक्शन हो रहा है। राजधानी लखनऊ के डालीबाग इलाके में उसके कब्जे वाली एक जमीन को शासन ने छीन लिया है।

Krishna Chaudhary
Published on: 21 Dec 2023 6:35 AM GMT (Updated on: 21 Dec 2023 9:06 AM GMT)
Mukhtar Ansari and CM Yogi
X

Mukhtar Ansari CM Yogi (photo: social media ) 

Lucknow News: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार कुख्यात माफियाओं, गैंगस्टरों और बाहुबलियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है। सरकार के निशाने पर इन माफियाओं की वैसी संपत्तियां हैं, जिसे इन्होंने काली कमाई से खरीद रखा है। बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी के आर्थिक साम्राज्य के खिलाफ ताबड़तोड़ एक्शन हो रहा है। राजधानी लखनऊ के डालीबाग इलाके में उसके कब्जे वाली एक जमीन को शासन ने छीन लिया है।

बुधवार को शासन के आदेश पर लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) के अभियंत्रण इकाई के इंजीनियर्स मौके पर पहुंचे और भूखंड की साफ – सफाई कराई। एलडीए के उपाध्यक्ष डॉ. इंद्रमणि त्रिपाठी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि मुख्तार अंसारी के कब्जे वाले भूखंड को प्राधिकरण ने अपने कब्जे में ले लिया है। यहां चार मंजिला अपार्टमेंट बनाने के आदेश दे दिए गए हैं। शनिवार तक इसका डिजाइन बन जाएगा। स्ट्रक्चर में कोई खामी नहीं मिलने पर निर्माण कार्य तत्काल शुरू कर दिया जाएगा।

माफिया की जमीन पर गरीबों का आशियाना

एलडीए ने शासन के आदेश पर मुख्तार अंसारी की जमीन को छीना है, वह करीब 2 हजार वर्गमीटर यानी 20 हजार वर्ग फीट का है। इस जमीन पर चार मंजिला दो अपार्टमेंट बनाए जाएंगे, जिसमें कुल 72 सस्ते फ्लैट होंगे। दोनों अपार्टमेंट में 36-36 फ्लैट होंगे। अपार्टमेंट बनाने का ठेका गोरखपुर की निर्माण कंपनी संगम इंटरप्राइजेज को 3.50 करोड़ में दिया गया है। एक फ्लैट की औसत लागत 4.50 लाख रूपये आएगी। गरीबों को ये फ्लैट डूडा के जरिए आवंटित किए जाएंगे।

आयकर विभाग ने जब्त की थी मुख्तार की ये जमीन

माफिया मुख्तार अंसारी ने डालीबाग इलाके में स्थित इस शत्रू संपत्ति पर कब्जा कर रखा था। ये उसकी बेनामी संपत्ति थी, जिसे आयकर विभाग ने जब्त किया था। पहले यह संपत्ति मुख्तार अंसारी की पत्नी अफशां अंसारी के नाम थी। बाद में मुख्तार ने इसे अपनी करीब गणेश दत्त मिश्रा को बेचा। मुख्तार के इशारे पर मिश्रा ने इस संपत्ति को गाजीपुर के रहने वाले तनवीर हसन को बेचा था।

बता दें कि इससे पहले प्रयागराज में दिवंगत कुख्यात माफिया अतीक अहमद के कब्जे से छुड़ाई गई जमीनों पर गरीबों के लिए आशियाना बनाया जा चुका है।

Monika

Monika

Content Writer

पत्रकारिता के क्षेत्र में मुझे 4 सालों का अनुभव हैं. जिसमें मैंने मनोरंजन, लाइफस्टाइल से लेकर नेशनल और इंटरनेशनल ख़बरें लिखी. साथ ही साथ वायस ओवर का भी काम किया. मैंने बीए जर्नलिज्म के बाद MJMC किया है

Next Story