×

Auraiya Crime News: जिला अस्पताल में भ्रष्टाचार का बोलबाला, जबरन वसूला जा रहा है सुविधा शुल्क

जिला अस्पताल में भ्रष्टाचार का बोलबाला है सारे फ्री की चीजें के लिए आमजन को पैसा देना पड़ रहा है,वहीं अस्पताल प्रशासन ने इस प्रकार के कृत्य से अनभिज्ञता जताई है।

Pravesh Chaturvedi
Report Pravesh ChaturvediPublished By Deepak Raj
Updated on: 2021-07-31T18:44:52+05:30
Patient showing his prescription
X

अस्पताल का पर्ची दिखाता रोगी

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Auraiya Crime News: 50 शैय्या युक्त संयुक्त चिकित्सालय में इस समय भ्रष्टाचार का बोलबाला दिखाई दे रहा है। उपचार के लिए आने वाले मरीजों से इंजेक्शन लगवाए जाने के नाम पर सुविधा शुल्क की वसूली की जा रही है। ऐसा ही एक मामला शनिवार को प्रकाश में आया। जिसमें एक बुजुर्ग द्वारा रेबीज का इंजेक्शन लगवाए जाने के नाम पर 20 रुपये मांगे जाने का आरोप लगाया है। पीड़ित बुजुर्ग द्वारा बताया गया कि उसे गत दिनों कुत्ते ने काट लिया था जिसका व उपचार कराने के लिए जिला अस्पताल आया हुआ था।


अस्पताल का पर्ची दिखाता रोगी


प्रदेश सरकार लोगों को सरकारी सुविधा मुहैया कराए जाने के लिए प्रयत्नशील है। मगर उनके अधीनस्थ कर्मचारी व अधिकारी सरकार की सभी योजनाओं एवं मंसूबों पर पानी फेरते हुए दिखाई दे रहे हैं। शनिवार को जिला अस्पताल में आए एक बुजुर्ग द्वारा उस समय भ्रष्टाचार की पोल खोली गई जब वह अपने आप को कुत्ते के काटे जाने का इंजेक्शन लगवाए जाने के लिए 50 शैय्या अस्पताल में आया हुआ था। ग्राम तरही निवासी नाथूराम ने जानकारी देते हुए बताया कि उसे कुछ दिनों पूर्व गांव में कुत्ता काट लिया गया था।

इंजेक्शन लगाए जाने के नाम पर 20 रुपये की मांगा गया


अस्पताल के सीएमएस प्रमोद कटियार


शनिवार को वह जिला अस्पताल में रेबीज का इंजेक्शन लगवाए जाने के लिए आया था। पर्ची आदि कटवाए जाने के बाद वह इंजेक्शन लगवाए जाने वाले रूम में पहुंचा तो वहां पर मौजूद एक कर्मचारी ने उससे इंजेक्शन लगाए जाने के नाम पर 20 रुपये की मांग की। जब उसने विरोध किया तो उसने कहा बिना रुपए के इंजेक्शन नहीं लगेगा। पीड़ित नाथूराम ने बताया कि जब उसने 20 रुपये इंजेक्शन लगाए जाने वाले व्यक्ति को दे दिए तो कर्मचारी द्वारा उसे रेबीज का इंजेक्शन लगाया गया।

अधिकारी ने ऐसे आरोंपों से अनभिज्ञता जताई

इस संबंध में अस्पताल के सीएमएस प्रमोद कटियार से जानकारी चाही गई तो उन्होंने बताया इस संबंध में उन्हें कोई भी जानकारी नहीं है और न ही अब तक कोई ऐसी शिकायत आई है। उन्होंने बताया कि यदि ऐसी शिकायत उनके पास तक आती है तो वह उसकी जांच कराकर दोषी के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। बताते चलें अस्पताल कि इस संबंध में कई और शिकायतें भी आ चुकी है। गत दिनों एक महिला चिकित्सक द्वारा सीएमएस सहित चार लोगों पर उत्पीड़न किए जाने का आरोप लगाए जाने की रिपोर्ट भी दर्ज कराई जा चुकी है। जिसकी जांच पुलिस द्वारा की जा रही है।

Deepak Raj

Deepak Raj

Next Story