×

इंडिया वॉलीबॉल टीम के कोच बने इटावा के अवनीश यादव, पढ़िए उनसे बातचीत के अंश सिर्फ Newstrack पर

इटावा के अवनीश यादव को वॉलीबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया ने भारतीय वॉलीबॉल टीम का कोच नियुक्त किया है

Uvaish Choudhari

Uvaish ChoudhariReport Uvaish ChoudhariAshikiPublished By Ashiki

Published on 18 July 2021 5:40 PM GMT

avnish yadav
X

अवनीश यादव (Photo- Newstrack)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

इटावा: उत्तर प्रदेश का इटावा पूरे देश और विश्व में पहले चंबल के बिहड़ो में रहने वाले कुख्यात डकैतों के नाम से जाना गया और जब डकैतों का बिहड़ो से सफाया हुआ तो फिर राजनीति के और अखाड़े के पहलवान सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के नाम से जाना जाने लगा। क्योंकि मुलायम सिंह यादव 2 बार देश के सबसे बड़े सूबे से मुख्यमंत्री रहे एक बार केंद्र में रक्षा मंत्री रहे और उनके पुत्र अखिलेश यादव भी प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। परिवार का एक बड़ा हिस्सा राजनीति में सक्रिय चला आराहा है, जिस कारण इटावा मुलायम सिंह यादव के गृह जनपद होने के नाते इटावा की पहचान एक राजनीति की प्रष्ठभूमि पर अपनी पहचान बनाए हुए हैं।

लेकिन आज इटावा जनपद का नाम एक बार फिर सुर्खियों में आया है। यह नाम आज राजनीति या डकैतों की वजह से नहीं बल्कि शहर के सिविल लाइन इलाके में रहने वाले अवनीश यादव है। जिनको वॉलीबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया ने भारतीय वॉलीबॉल टीम का कोच नियुक्त किया गया।


उत्तर प्रदेश का इटावा पहला ऐसा जिला है जहां से भारतीय वॉलीबॉल सीनियर टीम का कोच बनाया गया, अवनीश यादव ओएनजीसी की टीम के लगभग चार वर्षों से कोच हैं, लेकिन अब उनको देश का नाम रोशन करने के लिए फुटबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया ने चुना है। 8 सितम्बर 2021 से जापान में होने वाले सीनियर एशियन चैम्पियनशिप के लिए देश की बॉलीबॉल टीम के खिलाड़ियों को तैयार करना है और देश को ज्यादा से ज्यादा मैडल जीतकर देश और इटावा जनपद का नाम रोशन करना है। यह चैम्पियनशिप 23 सितम्बर को समाप्त होगी।


अवनीश बताते हैं कि उनके लिए बड़ी चिनौती है चीन और जापान की टीम को परास्त करके देश के लिए मैडल रेस में आना। पूरी मेहनत लगन के साथ टीम को तैयार करके वॉलीबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया ने जो हम पर विश्वास जताया है उस भरोसे को कायम रखना है।

अवनीश यादव ने भारतीय वालीबाल टीम का प्रशिक्षक नियुक्त होने पर न्यूज़ट्रैक संवाददाता उवैश चौधरी से कहा कि मेरा पहला लक्ष्य 21वीं सीनियर एशियन वालीबाल चैम्पियनािप, जापान में 08 से 20 सितम्बर, 2021 तक में भारतीय वालीबाल टीम को जीत दिलाने का है। इससे पूर्व केआईआईटी, भुवनेवर, उडीसा में 20 जुलाई से 07 सितम्बर, 2021 तक भारतीय वालीबाल टीम की तैयारियों हेतु प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है। मेरे द्वारा इससे पूर्व मुख्य कोच के रूप मेें ओएनजीसी, उत्तराखंड एवं आसाम की टीम को प्रािक्षण प्रदान किया गया। मेरे प्रशिक्षक काल में मार्च 2021 में आयोजित सीनियर नेशनल वालीबाल चैम्पियनािप, भुवनेवर में आसाम की टीम ने रजत पदक प्राप्त किया।



अवनीश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश वालीबाल संघ, आसाम वालीबाल संघ, उत्तरांचल ओलम्पिक एसोसिएशन, उत्तर प्रदेश ओलम्पिक एसोसिएशन व ओएनजीसी मैनेजमेंट का आभार व्यक्त करता हूँ। वालीबाल फेडरेशन आफ इण्डिया के रामअवतार जाखड़, अनिल चैधरी, सुनील तिवारी और अच्युत सामंत का विषेश रूप से आभार व्यक्त करता हूँ कि उनके द्वारा मुझे भारतीय वालीबाल टीम का प्रशिक्षक नियुक्त किया।

अवनीा यादव का जन्म इटावा के शहर के सिविल लाइन में स्व. एचपी यादव के यहाँ हुआ। इनकी प्रारम्भिक शिक्षा सेंट मैरी इण्टर काॅलेज में हुई इसके उपरांत आगे की शिक्षा लखनऊ के काॅलविन ताल्लुकेदार काॅलेज में जबकि ग्रेजुएशन की शिक्षा रानी लक्ष्मीबाई नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फिजीकल एजूकेशन, ग्वालियर में प्राप्त की। वर्तमान में ओएनजीसी, गुवाहाटी, आसाम में चीफ मैनेजर, एचआर के रूप से सेवारत हैं। अवनीश यादव को उत्तर प्रदेश का सर्वोच्च खेल सम्मान 2000 में अहिल्या बाई होल्कर पुरस्कार-2008 में जबकि या भारती सम्मान वर्ष-2015 में प्राप्त हुआ।


अवनीश के पिता एच पी यादव का 80 वर्ष की उम्र में मार्च 2021 में देहांत होगया अवनीश के दो बच्चे है अश्विन, अश्विका इनकी पत्नी रुचिका यादव एल घरेलू महिला है अवनीश की शादी 2008 में हरिद्वार से हुई।

अवनीश बताते है कि उनको बचपन से ही खोलों में रुचि रही है लखनऊ हॉस्टल में जाने के बाद अवनीश ने बॉलीवॉल को अपना पसंदीदा खेल चुना और उनकी ग्रेजुएशन की शिक्षा ग्वालियर के रानी लक्ष्मीबाई नेशनल इंटीट्यूट ऑफ फिजिकल एजुकेशन से हुई।

Ashiki

Ashiki

Next Story