×

Farrukhabad News: ओवरब्रिज निर्माण में बाधक बन रही दुकानों को किया गया ध्वस्त

अवैध कब्जा कर बनी आधा दर्जन से अधिक दुकानों को जिला प्रशासन ने बुल्डोजर चलवा कर जमींदोज करा दिया है।

Dilip Katiyar

Dilip KatiyarReport Dilip KatiyarRaghvendra Prasad MishraPublished By Raghvendra Prasad Mishra

Published on 28 July 2021 1:54 PM GMT

Illegal land
X

अवैध दुकानों को तोड़ा गया

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Farrukhabad News: जिले में अवैध निर्माणों पर एकबार फिर से जिला प्रशासन का बुलडोजर गरजा। पीडब्ल्यूडी की जमीन पर अवैध कब्जा कर बनी आधा दर्जन से अधिक दुकानों को जिला प्रशासन ने बुल्डोजर चलवा कर जमींदोज करा दिया है। जिला प्रशासन की तरफ से कई बार दुकानों को तोड़ने की सूचना देने के बाद भी जब दूकान मालिकों ने अतिक्रमण नहीं हटाया तो आज सभी दुकानों को जेसीबी की मदद से गिरा दिया गया

जानकारी के मुताबिक थाना नवाबगंज क्षेत्र के ग्राम शुकुरुल्लापुर में कई सालों से ग्रामीणों ने रोड किनारे पीडब्ल्यूडी की जमीन पर अवैध तरीके से कब्जा कर दुकानों का निर्माण करवा लिया था। ग्रामीणों द्वारा अवैध कब्जा कर बनायीं गई दुकानें उस समय जिला प्रशासन की नजर में आ गईं जब शुकुरुल्लापुर रेलवे क्रासिंग पर बनने बाले ओवर ब्रिज निर्माण में करीब आधा दर्जन दुकानें बाधक बनने लगीं। जिला प्रशासन की तरफ से कई बार दूकान मालिकों से अवैध निर्माण हटाने के लिए कहा गया, लेकिन दुकानदारों ने अपना कब्जा नहीं हटाया। आखिरकार दुकानदारों के मनमाने रवैये के चलते आज जिला प्रशासन ने सभी दुकानों को बुल्डोजर की मदद से चंद घंटों में गिरा दिया।


रोड किनारे अतिक्रमण हटाने के लिए एसडीएम कायमगंज ने बड़े पैमाने पर पुलिस व पीएसी की तैनाती आस पास कर दी थी। वहीं ग्रामीण दुकानों के बदले जिला प्रशासन से मुआवजे की मांग कर रहे हैं। लेकिन मौके पर मौजूद एसडीएम ने स्पष्ट कर दिया है कि अवैध रूप से सरकारी जमीन पर दुकानों के निर्माण होने की वजह से मुआवजा देने का कोई प्रावधान नहीं है। इसके बावजूद दुकानदार जिला प्रशासन के इस कार्य का विरोध करते रहे। हालांकि पूरी तैयारी के साथ आए प्रशासनिक अधिकारियों ने किसी की एक न सुनी और देखते ही देखते ब्रिज निर्माण में अवरोध बने दुकानों को बुल्डोजर चलवाकर धराशायी करा दिया गया। प्रशासन की इस कार्रवाई के चलते दुकानदारों में काफी आक्रोश देखा जा रहा है।

Raghvendra Prasad Mishra

Raghvendra Prasad Mishra

Next Story