×

Farrukhabad News: गरीबों का राशन खा रहा एफसीआई गोदाम, जनता की भूख पर ऐसे लग रहा डाका

फर्रुखाबाद एफसीआई गोदाम पर घटतौली के खेल के चलते फुटकर राशन विक्रेता परेशान हो रहे हैं।

Dilip Katiyar
Updated on: 12 Sep 2021 3:07 PM GMT
FCI godown par Ghatauli
X

एफसीआई गोदाम पर घटतौली का खेल जारी (फोटो-न्यूजट्रैक)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Farrukhabad News: फर्रूखाबाद एफसीआई गोदाम (FCI godown) पर घटतौली के खेल के चलते फुटकर राशन विक्रेता परेशान हो रहे हैं। प्रदेश सरकार ने एफसीआई गोदाम (FCI godown) से लेकर सरकारी राशन विक्रेताओं की दुकानों तक माल पहुंचाने का जिम्मा लिया था। तो वहीं जिला स्तर पर कोटेदारों से राशन पहुंचाने का पैसा वसूल किया जा रहा है। जिससे राशन कोटेदार परेशान हैं तो वहीं एफसीआई गोदाम से बोरियों में कम अनाज दिया जा रहा है, जबकि बोरी में 51-52 किलो राशन आता है, लेकिन कोटेदारों को बोरियों में 46 किलो के करीब राशन मिलता है।

एफसीआई गोदाम (FCI godown) से बोरियों की तौल कराकर राशन लोडिंग का प्रावधान है परंतु एफसीआई गोदाम (FCI godown) में उच्च अधिकारियों की मिलीभगत से राशन की तौल नहीं कराई जाती। बोरियों से राशन कम कर के उचित दर विक्रेताओं को दे दिया जाता है। जिसका सीधा असर कार्ड धारक पर पड़ता है, जिन्हें कम राशन मिलता है। गोदाम में देखा गया कि राशन तोलने वाला कांटा कई माह से कबाड़ में पड़ा हुआ है। जिसमें जंग लग चुकी है तो उससे साफ लग रहा है कि कांटे से कई महीनों से अनाज को नहीं तौला गया। जब कैमरा लोडिंग हो रही बोरियों पर चला तो एफसीआई गोदाम (FCI godown) इंचार्ज लोडिंग को रुकवा दिया।


वहीं उचित दर विक्रेताओं का आरोप है कि हम लोगों को गोदाम से राशन कम मिलता है। हम लोग मशीन से अंगूठा लगवा कर पूरा राशन दे रहे हैं। राशन हम लोगों पास कम पड़ जाता है। तो कई गरीब असहाय लोग राशन से वंचित रह जाते हैं। हम लोगों का प्रति बोरी 30 से 35 रुपये खर्च आता है। इसकी भरपाई हम कहां से करें, इसी के विरोध में हम लोगों ने इस माह की 5 तारीख से काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन शुरू किया। अगर हमारी मांगों को नहीं माना जाता तो हम लोग उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।


जब एफसीआई गोदाम के इंचार्ज से बात की तो उन्होंने बताया की बोरियां लोड होने के बाद कांटे पर बाहर तो लाई जाती हैं अगर राशन कम निकलता है तो राशन विक्रेताओं को दे दिया जाता है। अगर ज्यादा होता है तो उनसे वापस लिया जाता है। जब कांटे के बाबत पूछा गया तो वह मामले पर पर्दा डालते हुए बताया कि हमारी अभी पोस्टिंग हुई है हमको इसकी जानकारी नहीं है।

Raghvendra Prasad Mishra

Raghvendra Prasad Mishra

Next Story